भाजपा का प्रदीप छाबड़ा पर पलटवार,प्रशासन की बैठक में टंडन की उपस्थिति को विस्तार से समझाया
April 30th, 2020 | Post by :- | 77 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) प्रदेश भाजपा महासचिवों चन्द्रशेखर और रामबीर भट्टी ने चंडीगढ़ कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा के उस ब्यान को आड़े हाथो लिया जिस पर वे भाजपा दिग्गज नेता संजय टंडन का यूटी प्रशासन की बैठक में दर्ज उपस्थिति का आधार खोज रहे थे।

चन्द्रशेखर ने कड़े शब्दों उनके ब्यान की निंदा करते हुये संकट के समय में ऐसी औछी राजनीति करने की बजाय जनता के आवश्यक कामों को पूरा करने की नसीहत दी।

उन्होंनें कहा कि भले ही संजय टंडन पर प्रदेशाध्यक्ष की जिम्मेवारी नहीं है परन्तु संकट के समय चंडीगढ़ के नागरिकों के समास्याओं का वे बखूबी संज्ञान ले कर प्रशासन के समक्ष रख रहे हैं।

उन्होंनें स्पष्ट किया कि भाजपा केन्द्रीय कार्यालय द्वारा आर्थिक नीतियों की परिस्थितियों का विषलेक्षण करने के लिये एक वीडियों कांफ्रेंस आयोजित की गई तो संजय टंडन का मध्यस्थता (माॅडरेटर) को जिम्मा सौंपा गया था जिसमें उन्होंनें चंडीगढ़ के विभिन्न बिजनैस कारॅपोरेट और इंडस्ट्रीज से जुड़े प्रतिनिधियों को भरोसे में लेकर केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल और केन्द्रीय संवाददाता गोपाल अग्रवाल से सीधा संपर्क करवाया था। इनमें से कुछ मुद्दे चंडीगढ़ प्रशासन के साथ जुड़े थे जिसके निवारण के लिये स्वयं संजय टंडन ने चंडीगढ़ प्रशासन से बात की जिसके बाद उनकी परिस्थितियों को समझने के लिये एक अन्य वीडियो कांफ्रेस सालाहकार मनोज परिदा और वित्त सचिव के साथ आयोजित हुई।
उन्होंनें कहा कि संकट की इस घड़ी में उन्होंनें लोगों का दर्द समझा है, इसलिये लाॅकडाऊन शुरु होने से पहले ही संजय टंडन की फांउडेशन बलरामजी दास टंडन फांउडेशन विधवाओं के लिये एक माह तक के लिये 500 बैग्स तैयार करवा लिये थे जिनका वितरण 25 मार्च से शुरु हो गया था। फांउडेशन ने भाजपा कार्यकताओं के माध्यम से आज तक लगभग 2000 परिवारों में एक माह तक का राशन उपलब्ध करवा दिया है। लाॅकडाऊन के एक सप्ताह बाद ही संजय टंडन को सम्मान में प्राप्त सभी पटके और सरोपे विभिन्न दर्जियों के माध्यम से मास्क के बनाने में लगा दिये थे और जरुरतमंदों में वितरित किये गये।

चन्द्रशेखर ने अंत में सुझाया कि राजनैतिक पार्टियां आपसी मानमुटाव को छोड़कर कर संकट की घड़ी में जनता के प्र्रति समर्पण को सर्वोपरि रखे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।