प्रताप सिंह खाचरियावास ने 200 पीपीई किट भेंट कर जनाना, कांवटिया, टीबी अस्पताल में डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ और सफाई कर्मचारियों का सम्मान करते हुए अस्पतालों का लिया जायजा
April 29th, 2020 | Post by :- | 32 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कांवटिया जिला अस्पताल, चांदपोल जनाना अस्पताल, बनीपार्क सेटेलाइट हॉस्पिटल एवं टीबी हॉस्पिटल शास्त्री नगर का दौरा कर अस्पताल का जायजा लिया। डॉक्टर्स-नर्सिंग स्टाफ एवं सफाई कर्मचारियों से मिलकर उनकी हौसला अफजाई भी की। अस्पताल में भर्ती मरीजों की कुशल क्षेम पूछी। इस अवसर पर प्रताप सिंह खाचरियावास ने चारों अस्पतालों एवं सांगानेरी गेट स्थित जनाना महिला चिकित्सालय में 200 पीपीई किट अस्पताल प्रशासन को भेंट किए। खाचरियावास ने इस अवसर पर अस्पतालों का जायजा लेने के दौरान डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ और सफाई कर्मचारियों का सम्मान किया। जनाना अस्पताल चांदपोल में कोविड-19 की मशीन का उद्घाटन किया जिसमें जांच करने वाले चिकित्सा कर्मी को मरीज के संपर्क में आने की जरूरत नहीं है। वह अपने कैबिन में बैठकर मशीन द्वारा कितने ही मरीजों की जांच करें तो जांच करने वाले का संक्रमित होने का खतरा भी नहीं रहेगा। इस अवसर पर खाचरियावास ने संवाददाताओं से वार्ता करते हुए कहा कि कोरोनावायरस से डरने की बजाय इसका बचाव करते हुए इसको खत्म करने की जरूरत है। आज हर कोई व्यक्ति कोरोना की अफवाह फैला कर डर का माहौल पैदा कर रहा है। हमें लोक डाउन की पालना करनी चाहिए। हर व्यक्ति को सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल करना चाहिए। भीड़ में नहीं जाना चाहिए, झूठा पानी पीना, एक बर्तन में खाना खाना बीमारी को बढ़ाता है। लेकिन वह लोग जो मरीजों के अस्पतालों में जाने का विरोध करते हैं, शमशान में शव जलाने का विरोध करते हैं, रास्ते रोककर कॉलोनियों में लोगों को परेशान करते हैं, झूठी अफवाह फैलाते हैं, जाति, धर्म और राजनीति भेदभाव के आधार पर झूठी बयानबाजी करते हैं वह देश समाज और मानवता के दुश्मन हैं। ऐसे लोगों को कोरोना के संकट को समझ कर जनसेवा करनी चाहिए क्योंकि इस तरह के गलत कृत्य गैरकानूनी है। आज प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है कोरोना के अंधेरे को खत्म करके,उजाले में एक नई शुरुआत करने के लिए सब लोग जिसको जहां मौका मिले सेवा के काम में हाथ बटाए और मानवता की सेवा कर अपने जीवन की सार्थकता सिद्ध करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।