प्रत्येक पुलिस कर्मचारी की करवाई जा रही है मैडिकल जांच- पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह भौरिया।
April 29th, 2020 | Post by :- | 43 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह भौरिया ने प्रेस नोट के माध्यम से बताया कि जैसा कि आप सभी को विदित है कि पूरे भारतवर्ष में कोरोना महामारी से बचाव के लिये 03 मई तक लॉकडाउन लागू किया गया है। लॉकडाउन के दौरान प्रत्येक कर्मचारी अपनी पूरी निष्ठा व लगन के साथ लॉकडाउन को सफल बनाने के लिये नियमों का पालन करने व पालन कराने में प्रयासरत है।

नियमों का पालन कराने में पुलिस कर्मचारी भी अपनी पूरी लगन व अनुषासन में रहकर ड्यूटियां कर रहे हैं। पुलिस कर्मचारियों की ड्यूटि ज्यादातर फील्ड में होती है जिसके कारण वे जनता के सम्पर्क में ज्यादा आते हैं। जिस कारण पुलिस कर्मचारियों मंें संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है।

पुलिस कर्मचारियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुये कि कहीं कोई पुलिस कर्मचारी कोरोना से संक्रमित तो नही हो गया है इस दौरान अन्य किसी प्रकार की बीमारी से ग्रस्त तो नही हो गया है, इसके लिये जो पुलिस कर्मी जहां भी ड्यूटि पर तैनात है वहां पहुंचकर प्रत्येक पुलिस कर्मचारी की मैडिकल जांच करवाई जा रही है।

सुरेंद्र सिंह भौरिया ने बताया कि पुलिस कर्मचारियों के मैडिकल जांच के लिये रणबीर सिंह फार्मासिस्ट पुलिस विभाग करनाल की ड्यूटि लगाई गई है। जो प्रत्येक थाना, चौकी, नाका, राईडर, पी.सी.आर. व जहां-2 पुलिस कर्मचारी ड्यूटि पर तैनात हैं उस जगह पर जाकर उनकी जांच कर रहे हैं, ताकि कोई भी पुलिस कर्मी बिना मैडिकल जांच के ना रह जाये।

रणबीर सिंह अपनी पूरी लगन व मेहनत के साथ अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहे हैं। इनके द्वारा ज्यादातर पुलिस कर्मचारियों की मैडिकल जांच की जा चुकी है। जिन पुलिस कर्मचारीयों की जांच अभी बाकि है उनकी जांच भी दो या तीन दिन में कर दी जायेगी। अब तक के मैडिकल जांच के नतीजों के आधार पर कोई भी पुलिस कर्मचारी संक्रमित नही पाया गया है।

जो मेरे लिये व करनाल पुलिस के लिये यह एक राहत भरी खबर है कि सभी पुलिस कर्मचारी स्वस्थ हैं। पुलिस कर्मचारियों के स्वास्थ्य को मध्यनजर रखते हुये इस तरह के प्रयास आगे भी जारी रहेंगे। व समय-2 पर प्रत्येक पुलिस कर्मचारी की मैडिकल जांच करवाई जाती रहेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।