मुच्छल गांव में दो क्रोना शकी मिले ।
April 28th, 2020 | Post by :- | 204 Views

कर्फ्यू दौरान शकी मरीज को साथ लेकर मोटरसाइकिल पर जलन्धर से अमृतसर के गांव नानी के घर पहुंचने पर लोगों द्वारा सूचित करने पर डॉक्टरों की टीम ने दोनों को एम्बुलेंस द्वारा अमृतसर भेजा।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
कर्फ्यू के दौरान भी पुलिस द्वारा थोड़ी सी ढील दिए जाने का लाभ लेने वाले खतरनाक हालात पैदा कर सकते हैं। इसकी ताज़ा उदाहरण गांव मुच्छल की है जहाँ पर पर दो क्रोना शकी व्यक्तियों को काबू कर अमृतसर भेजा गया है। जिला नोडल अफ़सर डॉक्टर मदन मोहन सीनियर मेडिकल अफ़सर तरसिक्का डॉक्टर विनोद कुमार की अध्यक्षता में टीम द्वारा एक शकी मरीज की सूचना मिलते ही गांव मुच्छल से डॉक्टरों की टीम जिससे अजमेर सिंह सोही ,कुलविंद्रजीत सिंह ,कुलविंदर सिंह ,कंवलप्रीत कौर ,रविन्द्र सिंह ,बलजीत कौर ,रुबलप्रीत कौर सी एच ओ डॉक्टर प्रिंस कुमार ,हरप्रीत सिंह और ए एस आई जगीर सिंह द्वारा एक प्रवासी राम बुशाल ,औऱ लवप्रीत सिंह को टेस्ट के लिए अमृतसर भेज दिया गया है ।पत्रकार को जानकारी देते हुए डॉक्टरों की टीम ने बताया कि एक लड़का लवप्रीत सिंह निवासी गांव मल्लूनंगल जिला अमृतसर जो कि जलन्धर में रहता था औऱ इसके साथ एक प्रवासी राम बुशाल भी रहता है ।लोकडौन कर्फ्यू के दौरान रह रहे कल ही एक मोटरसाइकिल पर सवार होकर गांव मल्लूनंगल पहुंच गए कि किसी को पता ना चले ,इसके चलते लवप्रीत सिंह अपनी नानी स्वर्ण कौर पत्नी अरूढ़ के पास गांव मुच्छल आ गया। गांव वासियों को पता चलने पर इस शकी के बारे में गांव की डिस्पेंसरी के मुलाजिमों को।सूचित किया गया। उनके द्वारा तुरन्त आर आर टीम को बुला लिया गया ।इस तरह यह क्रोना के शकी मरीज़ जलन्धर जी टी रोड से गाँवो में घूमता हुआ पहुंचा ।हैरत वाली बात यह है कि इन्हें किसी ने रोक कर नही पूछा कि कहाँ से आए हो जबकि जलन्धर इस समय क्रोना का हॉटस्पॉट क्षेत्र है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।