नौकरी लगवाने की एवज धोखाधड़ी कर लाखों रुपये हड़पने के आरोपी को अपराध जांच शाखा पुलिस ने किया गिरफ्तार|
April 28th, 2020 | Post by :- | 26 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  जिलें में फर्जी पुलिस वाला बनकर होमगार्ड की नौकरी लगवाने की एवज में लोगों से धोखाधड़ी कर लाखों रुपये हड़पने व फर्जी नियुक्ति पत्र थमाने वाले आरोपी को अपराध जांच शाखा पुलिस ने गिरफ्तार कर एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया। रिमांड अवधि के दौरान आरोपी के कब्जे से दो मोहर, वाकी-टाकी सैट व चार हजार रुपये की नकदी को बरामद किया है। सीआईए इंचार्ज अशोक कुमार ने बताया कि उन्हें 27 अप्रैल को मुखबिर खास से सूचना प्राप्त हुई कि लोगों को होमगार्ड की नौकरी लगवाने की एवज में रुपये ऐंठने वाला आरोपी सोहना मार्ग पर गांव किशोरपुर मोड़ के समीप मौजूद है।

सूचना मिलते ही टीम गठित की गई जिसमें एसआई शहीद अहमद, सिपाही अजीत, गोविंद व सरकारी गाड़ी चालक महेश कुमार को शामिल कर मौके पर दबिश दी गई और आरोपी को काबू कर लिया। पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम भीषम उर्फ भीम निवासी गांव धतीर बताया। आरोपी भीषम को गहन पूछताछ व बरामदगी के लिए अदालत में पेश कर एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया। रिमांड अवधि के दौरान भीषम ने बताया कि उसने ही गांव भम्बू का नंगला निवासी रुपसिंह को अपने आप को हरियाणा पुलिस में एसआई के पद पर बताकर होमगार्ड की नौकरी लगवाने की बात कही और प्रत्येक नौकरी के लिए 50 हजार रुपये की मांग की। रुपसिंह ने अपने पुत्र व दोस्त के साले के पुत्र को लगवाने के लिए 84 हजार रुपये भी दे दिए थे।

आरोपी के कब्जे से एक मोहर एसपी कार्यालय की, एक मोहर डीसी कार्यालय की, एक वाकी-टाकी सैट व 4 हजार रुपये बरामद किए गए हैं। जांच में सामने आया कि इसी प्रकार होमगार्ड की नौकरी लगवाने की एवज में भीषम ने गांव भम्बू का नंगला निवासी राहुल से 20 हजार, कपिल से 62 हजार, राजेंद्र से 24 हजार 300 रुपये, राजीव से 22 हजार 300 रुपये, सुनहरी का नंगला निवासी सतवीर से 39 हजार 300 रुपये, गांव बागपुर निवासी सतपाल से 18 हजार रुपये व गांव कौराली निवासी मनीष से 34 हजार 800 रुपये ले रखें है। भीषम ने सभी को फर्जी नियुक्ति पत्र भी दे रखे हैं। आरोपी की एक दिन की रिमांड अवधि समाप्त होने के बाद मंगलवार को उसे अदालत में पेश किया गया जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।