शहर में रोज दिख रहे सब्जी बेचने वालों के नए चेहरे, कर रहे नियमों की उल्लंघना।
April 27th, 2020 | Post by :- | 38 Views

शहर में रोज दिख रहे सब्जी बेचने वालों के नए चेहरे, कर रहे नियमों की उल्लंघना।

लॉकडाउन के बाद से कालका शहर में सब्जी और फल विक्रेताओं की भरमार सी हो गई है। अक्सर देखने में आ रहा है कि शहर के बाजारों व गलियों में नए चेहरे देखने को मिल रहे हैं जिसमें कई व्यक्ति अपनी ऑटो, किराए की रेहड़ी यहां तक कि कई लोग अपनी निजी कार में भी सब्जी बेचने का धंधा कर रहे हैं। देखा गया है कि कई सब्जी-फल विक्रेताओं के पास तोलने के लिए पूरे वजन तक भी नहीं हैं, वह सब्जी-फल तोलने के लिए वजन की जगह पत्थर का इस्तेमाल कर रहे हैं।

शहरवासी मुकेश सोढी, सुनील दत्त, शारदा शर्मा, सुशील गौतम, सुभाष चंद्र, अशोक बेदी, पुरषोत्तम कुमार, मधु शर्मा, संजय, विक्की आदि ने बताया कि सब्ज़ी-फल बेचने वालों के पास प्रशासन की परमिशन नहीं होती, कोई पहचान पत्र या आईडी नहीं होता है। ऐसे में इस बात का पता लगाना मुश्किल हो जाता है कि सब्जी-फल बेचने वाला व्यक्ति सही है या नहीं। विक्रेता मुंह पर बिना मास्क लगाए व दस्ताने के देखे जाते हैं, सोशल डिस्टेंसिंग का भी कोई ध्यान नहीं रखते, रेहड़ी के आसपास लोगों की भीड़ इकट्ठी हो जाती है। लोगों का कहना है कि यदि किसी भी विक्रेता से अगर कोरोना वायरस फैल गया तो उसकी चेन को संभालना मुश्किल हो जाएगा। स्थानीय समाजसेवी व अन्य लोगों की प्रशासन से अपील है कि हर एक वेंडर्स की जांच होनी चाहिए, नियमों के तहत मास्क लगाने व दस्ताने पहनने तथा पूरे वजन रखने आदि की सख्त हिदायत देने उपरांत ही उन्हें सब्जी-फल बेचने की इजाजत देनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।