कोविड-19 की लड़ाई में कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग कर रही है मातृशक्ति:संदीप
April 27th, 2020 | Post by :- | 183 Views

पिहोवा ,लोकहित एक्सप्रेस ( राजेश कुमार)।
हरियाणा खेल एवं युवा मामले मंत्री संदीप सिंह ने कहा कि कोरोना वारियर्स के रूप में काम कर रही मातृशक्ति देश के साथ कंधे से कंधा मिलाकर इस लड़ाई में अहम भूमिका निभा रही हैं। इनका सम्मान करके हौसला बढ़ाना बहुत जरूरी है। देश की महिलाएं डॉक्टर्स, नर्सेज, चिकित्सा सहायक, महिला सफाई कर्मी, महिला पुलिस और आशा वर्कर सहित सभी वर्ग अपनी जान पर जोखिम लेकर अपना राष्ट्र धर्म निभा रही हैं। लॉक डाउन के चलते महिलाओं का घर का काम भी बढ़ गया है। लेकिन ये खुशी खुशी अपने परिवार का ख्याल रख रही हैं। ऐसा हौंसला केवल महिलाओं में ही हो सकता है।
उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से एक वीडियो जारी करके देश भर की महिलाओं का आभार भी जताया है। खेलमंत्री ने कहा कि यह समय एकजुटता दिखाकर कोरोना को हराने का है। कोरोना से बचाव के लिए समाजसेवियों की ओर से भी खेल मंत्री को राहत कोष के लिए चेक सौंपा गए। समाजसेवी कैलाश भगत ने खेल मंत्री को दो लाख रुपये का चेक पीएम केयर्स फंड के लिए दिया। उनके साथ हरियाणा मिल्क फूड के एमडी उमेश गोयल और जीएम नीरज अग्रवाल ने भी एक लाख एक हजार रुपये की सहायता राशि का चेक खेल मंत्री को सरकार के राहत कोष में देने हेतु सौंपा। दोनों समाजसेवी इससे पहले भी कई बार आर्थिक तौर पर सरकार की मदद कर चुके हैं। इनके साथ युवा सुशील गुप्ता ने भी सहायता राशि का चेक रिलीफ फंड के नाम सौंपा।
खेल मंत्री संदीप सिंह ने सभी समाजसेवियों का आभार जताते हुए कहा कि जरूरत की इस घड़ी में इन लोगों द्वारा किया गया सहयोग बहुमूल्य है। इस पैसे से उन लोगों तक राशन, दवाइयां और जरूरी सामान पहुंचाया जाएगा। जिन लोगों को मदद की जरूरत है। उन्होंने लोगों से कहा कि जिला कुरुक्षेत्र भले ही ग्रीन जोन में शामिल किया गया हो। लेकिन फिर भी एहतियात बरतना बहुत जरूरी है। बेवजह घर से बाहर निकल कर लॉकडाउन की उल्लंघना ना करें और जो सरकारी कर्मचारी कोरोना संघर्ष के दौरान ड्यूटी पर तैनात हैं उनका सहयोग करें। खेल मंत्री को हरियाणा स्किल डेवलपमेंट मिशन कुरुक्षेत्र की तरफ से एक हजार मास्क भी सौंपे गए ताकि इन्हें जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।