सेवा करने की प्रेरणा लेकर हम भी आएगें किसी के काम- प्रवासी मजदूर।
April 26th, 2020 | Post by :- | 212 Views

करनाल,(रजत शर्मा)। लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के लिए लगभग एक महीने तक दूसरा घर साबित हुए राधा-स्वामी सत्संग भवन करनाल से जिला प्रशासन द्वारा मजदूरों को उनके गंतव्य स्थान की ओर रवाना किया गया। प्रवासी मजदूरों के चहरे पर घर वापिस जाने और अपने से मिलने का उत्साह साफ दिख रहा था।

सुबह 4 बजे ही उठकर सभी तैयारियों में लगे थे और अपना सामान बांधने के बाद बसों में बैठने के लिए उत्सुक थे। बसों में सवार होने के बाद जहां एक ओर प्रवासी मजदूर सत्संग भवन में उपस्थित अनुयायियों को राधा-स्वामी जी बोलकर उनकी सेवा के प्रति धन्यवाद कर रहे थे।

वहीं दूसरी ओर सत्संग भवन के सेवादार भी राधा-स्वामी जी बोलकर सेवा का मौका देने के लिए अतिथि देवो भव: की संस्कृति का निर्वाह कर रहे थे। इस मौके पर बहुत से प्रवासी मजदूरों का कहना था कि हम लॉकडाउन के दौरान व्यतीत किए ये दिन कभी भूला नही पायेगें।

सेवा करने की जो सीख हमें इन दिनों में यहां से मिली है, इससे प्रेरणा लेकर शायद हम भी किसी के काम आएगे, इसी सोच के साथ यहां से जा रहे है। वीडियों फिल्मों के माध्यम से हमें सामाजिक बुराईयों के प्रति भी जागरूक होने की शिक्षा मिली है। पान, बीडी, गुटका तथा शराब इत्यादि का त्याग तो हमने ऐसे किया है, मानो कभी इनका सेवन किया ही ना हो।

प्रवासी मजदूरों का कहना था कि हमें यहां से नया जीवन जीने की प्रेरणा मिली है, इसके लिए हम और हमारा परिवार सदा राधा-स्वामी सत्संग ब्यास के ऋणी रहेगें। इस अवसर पर मौजूद अनुयायियों ने जिला प्रशासन के अधिकारियों व प्रवासी मजदूरों को धन्यवाद किया और कहा कि आप सबकी वजह से ही हमें सेवा का यह अवसर मिला है।

हमें खुशी है कि राधा-स्वामी सत्संग ब्यास से पूज्य बाबा जी के मार्ग दर्शन में हमें यह प्रेरणा मिली है कि मानव सेवा ही सबसे बडी सेवा है। मुसीबत में फसे हर जीव की सेवा हमारा परम कर्तव्य बनाता है। उन्होंने कहा कि हमें खुशी होगी कि सत्संग से प्रेरणा लेकर प्रवासी मजदूरों के जीवन में भी परिवर्तन आए और ये भी अपने जीवन में मुसीबत में फसे लोगों की मदद करें।

इस मौके पर तहसीलदार करनाल राजबख्श, जीएम रोडवेज अजय गर्ग, डीएसपी विरेन्द्र सैनी ने सत्संग भवन में उपस्थित सभी अनुयायियों का बेहतर व्यवस्था के लिए धन्यवाद किया और प्रवासी मजदूरों का भी व्यवस्था में सहयोग के लिए आभार जताया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।