अम्बाला स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव ठरवा कंटनेमैंट जोन एवं अन्य दूसरी जगहों पर लोगों को अरोग्य सेतू ऐप डाउनलोड करने के लिये प्रेरित भी किया।
April 26th, 2020 | Post by :- | 20 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि मुलाना मैडिकल कालेज में भर्ती पंचकूला के 7 मरीजों की रविवार को छुट्टी कर दी गई है। इसके साथ अब जिला में कोई भी कोरोना पॉजिटिव मरीज उपचाराधीन नही है। उन्होंने बताया कि जिला का दूसरा मरीज जोकि पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ में उपचाराधीन है, की हालत स्थित बनी हुई है एवं तब्लीगी जमात का एक कोरोना पॉजिटिव केस पीजीआई चंडीगढ़ में अन्य किसी बीमारी के कारण उपचाराधीन है।
उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस से सम्बन्धित जिला में कुल 1482 सैम्पल लिये जा चुके हैं, जिनमें से 1392 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है तथा 79 की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। आज तक जिला में कुल 13 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिनमें से दो मरीजों की रिपोर्ट पीजीआई चंडीगढ़ से पॉजिटिव आई है। गांव ठरवा में कंटेनमैंट जोन बना दिया गया है तथा पूरे गांव को सील करके स्वास्थ्य विभाग की गतिविधियां शुरू करवा दी गई हैं। सिविल सर्जन कार्यालय की टीम ने ठरवा गांव के कंटेनमैंट जोन में कार्यरत सभी टीमों को एक्टिव सर्विलांस की ट्रेनिंग दी तथा दूसरे विभागों के प्रतिनिधियों के साथ भी मीटिंग की तथा उन्हें बताया गया कि किस तरह संक्रमण की रोकथाम की जा सकती है। गांव ठरवा में कार्यरत 19 टीमों ने 13205 व्यक्तियों को स्क्रीन किया। शहजादपुर में कार्यरत 29 टीमों ने 11701 व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच की गई। इनमें से 5 लोगों के सैम्पल भी लिये गये हैं। इसके अलावा अम्बाला कंटनेमैंट जोन में 12 टीमों ने आज 5117 व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच की, जिनमें से एक व्यक्ति का सैम्पल लिया गया।
जिला में 96 विभिन्न मोबाईल टीमों ने आज 17631 मरीजों का चैकअप किया तथा 12 मरीजों को कोविड लाईक सिप्टम मिले, जिनमें से 6 व्यक्तियों के कोरोना टैस्ट हेतू सैम्पल भी लिये गये हैं। आज हारवैस्टिंग मशीनों के 24 ड्राइवर एवं हैल्परों की भी स्वास्थ्य जांच की गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव ठरवा कंटनेमैंट जोन एवं अन्य दूसरी जगहों पर लोगों को अरोग्य सेतू ऐप डाउनलोड करने के लिये प्रेरित भी किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।