नोडल अफ़सर मोहिंदर सिंह ने स्कूल मुखियों के साथ की मीटिंग
April 26th, 2020 | Post by :- | 145 Views

नोडल अफ़सर मोहिन्दर सिंह ने स्कूल मुखियों के साथ की आन -लाईन मीटिंग

सरकारी स्कूल के अध्यापकों की तरफ से आन -लाईन कक्षाएं लगाना प्रशंसनीय कार्य: मोहिन्दर सिंह

पठानकोट, 26 अप्रैल (कुुुलजीत सिंह

कोविड 19 करोना के चलते पूरे भारत में लाकडाऊन और पंजाब सरकार की तरफ से सूबो में 3 मई तक कर्फ़्यू लगाया गया है। शिक्षा विभाग की तरफ से आनलाइन भेजे गए सिलेबस और सीखने सामग्री को सरकारी अध्यापकों की तरफ से वटसऐप, वीडियो काल करके विद्यार्थियों को आन -लाईन कक्षाएं लगा कर सिलेबस करवाया जा रहा है। शिक्षा विभाग की तरफ से नियुक्त नोडल अफ़सर स. मोहिन्दर सिंह की तरफ से रविवार को शिक्षा आधिकारियों, प्रिंसिपल, हैड्डमास्टरें, स्कूल मुखियों, ब्लाक प्रइमारी शिक्षा अफसरों, पढ़ो पंजाब पढ़ायो पंजाब टीम और अध्यापकों के साथ वीडियो कान्फ़्रेंस करके बच्चों को कोविड 19 से बचाव करन के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ स्कूल मुखिया को आनलाइन नये दाख़िले करने के लिए अहम मीटिंग करके प्रेरित किया गया। इस मौके संबोधन करते नोडल अफ़सर स. मोहेन्दर सिंह ने विभागीय निर्देशों के बारे जानकारी देते कहा कि कर्फ़्यू कारण चाहे स्कूल बंद हैं परन्तु अध्यापकों की तरफ से बच्चे को आन -लाईन पढ़ाया जा रहा है जो कि विद्यार्थियों के लिए संजीवनी बूटी का काम कर रहा है। इस साथ साथ स्कूलों में बच्चो का आन -लाईन दाख़िला चल रहा है। इस लिए स्कूलों की तरफ से अपना लिंक तैयार किया है जिससे बच्चे लिंक द्वारा घर बैठे ही सरकारी स्कूलों में दाख़िला ले सकते हैं। उन कहा कि सरकारी स्कूल भी हाईटेक हो गए हैं, जिस का श्रेय माननीय शिक्षा मंत्री पंजाब श्री विजे इंद्र सिंगला और स्कूल शिक्षा सचिव श्री कृष्ण कुमार को जाता है। उन बताया कि अध्यापकों की तरफ से जहाँ विद्यार्थियों को आन -लाईन पढ़ाई करवाई जा रही है, वहाँ अध्यापकों की तरफ से मेहनत के साथ तैयार किये पाठ दोआबा रेडियो पर और इन पाठों की वीडियो रिकार्डिंग करके वट्टसऐप के सहयोग के साथ बच्चों तक पहुँच की जा रही है।

इस मौके पर ज़िला शिक्षा अफ़सर सेकंडरी शिक्षा स.बलबीर सिंह और ज़िला शिक्षा अफ़सर एलिमेंट्री शिक्षा इंजी संजीव गौतम ने अध्यापकों की तरफ से आनलाइन कक्षाएं लगाने की प्रशंसा की और दाख़िला मुहिम में तेज़ी लाने के लिए अध्यापकों की हौसला अफज़ाई करते बताया कि समय की नज़ाकत को समझते हुए शिक्षा विभाग ने अपने विद्यार्थियों की पढ़ाई को निर्विघ्न चलाने के लिए टेक्नोलोजी का सहारा लेते हुए अपनी पढ़ाई डिजिटल कर ली है। सैशन 2019 -20 पूरा होने से कुछ दिन पहले शुरू हुए लाकडाउन कारण शिक्षा विभाग अपने विद्यार्थियों को नये सैशन की किताबें मुहैया नहीं करवा सका जिस कारण आनलाइन परिणाम आ जाने के बावजूद भी बच्चे नये सैशन की पढ़ाई शुरू करन से असमर्थ थे और अध्यापक अपने विद्यार्थियों को पढ़ा नहीं सकते थे। इस समस्या के हल के लिए शिक्षा विभाग ने बड़े स्तर पर उपराले आरंभ किये और अपने विद्यार्थियों को किताबें डिजिटल रूप में प्रदान करके उन के लिए पढ़ाई जारी रखने का रास्ता खोल दिया। डिजिटल रूप में प्राप्त किताबें और सिलेबस को अपने अध्यापक से आनलाइन सिखते हुए विद्यार्थी घर बैठ कर न सिर्फ़ अपनी पढ़ाई कर रहे हैं बल्कि इस आनलाइन पढ़ाई की नयी तकनीक अपना कर अनन्दत भी हो रहे हैं।
शिक्षा विभाग की तरफ से अपने पहली कक्षा से बारहवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को ‘घर बैठे शिक्षा’ मिशन के अंतर्गत नीचे लिखे तरीकों के द्वारा किताबें (ई -बुक्कस) या सिलेबस पहुँचाया गया है जिससे वह सरकारी आदेशानुसार लाकडाऊन की पालना करते हुए घर बैठे ही अपनी पढ़ाई जारी रख सकें।
1) किताबें पी डी एफ रूप में:- सभी कक्षाओं की किताबें पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की साइट और पी डी ऐफ्फ फाईल के रूप में मुहैया करवाई गई हैं। हरेक विद्यार्थी इस साइट से अपनी कक्षा की किताबें डाउनलोड करके अपने मोबायल या कंप्यूटर में सेव करके रख सकता है और ज़रूरत अनुसार इन का प्रयोग करते हुए पढ़ाई कर सकता है।
2) किताबों के लिंक भेजना:- शिक्षा विभाग की तरफ से पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की साइट और डालीं गई किताबें दे चैप्टर ब्रेक आउट करते हुए सिलेबस अनुसार पाठों के लिंक मोबाइल या वटसऐप के द्वारा विद्यार्थियों को भेजे गए हैं जिससे इस लिंक के द्वारा विद्यार्थी सीधे उस पाठ और पहुँच सकें।
3) यू ट्यूब का प्रयोग:- शिक्षा विभाग की तरफ से Edusat नाम तो एक यूट्यूब चैनल बनाया गया है, जिस में सभी कक्षाओं के पाठ वीडियो के रूप में मुहैया करवाए गए हैं और सरकारी स्कूलों के बहुत ही योग्य अध्यापकों द्वारा तैयार पाठ इस में डाले गए हैं तथा ओर डाले जा रहे हैं।
4) Google Drive:- शिक्षा विभाग की तरफ से ब्रेक आउट किये गए चैप्टर Google Drive में मुहैया करवाए गए हैं और इस के लिंक लगातार विद्यार्थियों को भेजे गए हैं।
5) Iscuela Mobile App:- शिक्षा विभाग की तरफ से Iscuela Mobile App तैयार करवाया गया है जिस में सभी कक्षाओं के सिलेबस अनुसार रोचक तरीके के साथ तैयार वीडियो अप्पलोड किये गए हैं जिस से विद्यार्थी देखते और सुनते हुए बढ़िया तरीके के साथ शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।
6) टैलिविज़न का प्रयोग:- शिक्षा विभाग की तरफ से योग्य अध्यापकों द्वारा तैयार किये पाठ फास्ट ओए के चैनल नं 279 और चलाए जा रहे हैं जिससे विद्यार्थी टी वी देखते हुए शिक्षा ग्रहण कर सकें इसी पैटर्न के चलते NCERT की तरफ से प्रोग्राम शुरू किये जा रहे हैं।
7) रेडियो का प्रयोग:- शिक्षा विभाग के प्रयासों से आकाशवाणी पटियाला और दोआबा रेडियो के द्वारा बच्चों के लिए उन के सिलेबस में से अध्यापकों की तरफ से तैयार प्रोग्राम चलाए जा रहे हैं।
8) आनलाइन मीटिंगज़:- अध्यापक की तरफ से अपने विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ जोड़ने के मकसद के साथ’Zoom’और वटसऐप जैसे प्लेटफार्म का प्रयोग करते हुए, आनलाइन रूबरू उपस्थित हो कर सिलेबस करवाया जा रहा है जिससे बच्चों के साथ सीधी बातचीत हो सके और उन के सवालों का जवाब क्लास रूम की तरह दिया जा सके।
इस प्रकार शिक्षा विभाग अपने विद्यार्थियों को आनलाइन शिक्षा मुहैया कराने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा और आने वाले समय में इस को ओर बेहतर और प्रभावशाली बनाने के लिए उपराले जारी हैं। इस मौके पर मीटिंग में शिक्षा सुधार टीम के प्रमुख राजेश्वर सलारीया, डीएसएम बलविन्दर सैनी, पढ़ो पंजाब पढ़ाओं पंजाब कोआरडीनेटर वनीत महाजन, डीसी दफ़्तर से चत्तर सिंह, ज़िला मीडिया कोआरडीनेटर बलकार अत्तरी समेत समूह बीपीईओं, समूह पढ़ो पंजाब टीम, समूह सैंटर हैड और समूह स्कूल प्रमुख उपस्थित थे।

फोटो कैपसन:- ज़ूम एप के द्वारा मीटिंग करते हुए नोडल अफसर स. मोहिंद्र सिंह, ज़िला शिक्षा अफ़सर सेकंडरी स. बलबीर सिंह और ज़िला शिक्षा अफ़सर एलिमेंट्री इंजी. संजीव गौतम।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।