*अवैध रूप से सॉफ्ट ड्रिंक निर्माता के घर हुई छापेमार कार्यवाही* *नकली सॉफ्ट ड्रिंक समेत निर्माण सामग्री की गयी सील, जांच हेतु सेंपल भेजा गया*
April 26th, 2020 | Post by :- | 66 Views

कोण्डागांव 25 अप्रैल 2020/ देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन किया गया है ऐसे में सभी प्रकार के सरकारी एवं निजी उद्योगों में निर्माण कार्य पर रोक लगा दी गयी थी। लेकिन केशकाल में एक निजी उद्योग के अंतर्गत लॉक डाउन के बाद भी लगातार सॉफ्ट ड्रिंक निर्माण कार्य निरन्तर चलने की खबर जिला प्रशासन को प्राप्त हुई। जिस पर कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के मार्गदर्शन पर केशकाल एसडीएम दीनदयाल मंडावी, तहसीलदार राकेश साहू व जिला खाद्य अधिकारी डोमेंद्र ध्रुव, थाना प्रभारी देवेंद्र दर्रो , सीएमओ नामेश कावड़े के द्वारा संयुक्त टीम गठित कर निर्माता के यहां दबिश देकर उक्त निर्माण स्थल को सील कर दिया गया है।

 

गौरतलब है कि केशकाल में बीते दिनों में लगातार शासन प्रशासन के नियमों को अनदेखा कर विभिन्न प्रकार के प्रतिबंधित क्रियाकलाप किये जाने की जानकारी प्राप्त होती रही है, इसी बीच नगर के एक निजी व्यवसायी ( अनमोल गृह उद्योग संचालक यासीन मेमन) के द्वारा अपने घर मे मशीनों से सॉफ्ट ड्रिंक निर्माण ( स्प्रिंट एवं फेंटास ) जो स्प्राइट और फेंटा का डुप्लीकेट नाम से बनाने का कार्य किया जा रहा था साथ ही सैकड़ों पैकेट पेप्सी बिक्री हेतु तैयार रखी हुई थी, ज्ञात हो कि इन नकली नामों वाले पेय पदार्थों को गांवों में खपाया जाता है। ऐसे में जानकारी प्राप्त होने पर जिला खाद्य अधिकारी ने शनिवार को स्थानीय प्रशासन, नगर पंचायत एवं पुलिस की टीम के साथ मौके पर दबिश दी । इस दौरान निर्माण स्थल पर भारी मात्रा से डुप्लीकेट सामानों को जब्ती किया गया एवं उन सभी सामानों में उत्पादन का दिनांक एवं अवशान की तिथि अंकित नही की गई थी जिसके बाद सभी सामग्री व मशीनों को सील कर सैंपल लिया गया।
जिला खाद्य अधिकारी ने बताया कि सूचना प्राप्त होते ही स्थानीय प्रशासन की मदद से मौके पर टीम रवाना कर दी गयी थी। उस स्थान पर अवैध रूप से सॉफ्ट ड्रिंक का नकली नामों से निर्माण किया जा रहा था ,जिस पर पूरी टीम, पुलिस बल एवं नगर पंचायत कर्मियों ने साथ मिलकर मौके पर पहुंची एवं सभी सामानों को सील कर उक्त उत्पादों का सैम्पल ले लिया गया है जांच के बाद आगे की कार्यवाही की जावेगी ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।