हर्षोल्लास से मनाया गया 20वाँ कारगिल विजय दिवस समारोह |
September 3rd, 2019 | Post by :- | 221 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  होडल अनाज मंडी में सोमवार को सर्व समाज कल्याण समिति पलवल के तत्वाधान में 20वें कारगिल विजय दिवस समारोह हर्षोल्लास से मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्यअतिथि के रूप में केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री कृष्णपाल गुर्जर मौजूद थे जबकि अध्यक्षता भारतीय कृषक समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णबीर चौधरी ने की। कार्यक्रम के स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा देश भक्ति व ब्रज लोक गीतों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए।

कार्यक्रम में मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने शहीदों के परिजनों को स्मृति चिन्ह व शॉल भेंट कर उनका सम्मान किया। इस मौके पर क्षेत्र के सामाजिक संगठनों व शैक्षिणिक संस्थानों के पदाधिकारियों को भी सम्मानित किया गया। समारोह का मंच संचालन विष्णु गौड ने किया।
अनाज मंडी में आयोजित सर्व समाज कल्याण समिति पलवल द्वारा आयोजित कारगिल विजय दिवस समारोह का शुभारंभ केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने दीप प्रज्जवलित कर किया। मंत्री के समारोह में पहुंचने पर समिति की ओर से फूल-मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। समारोह में एचजीएम व आईएस मेमोरियल स्कूल के छात्र-छात्राओं ने देशभक्ति व बृज लोक गीतों पर लघु नाटिकाएं व सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

भारत स्काउटस एवं गाईड्स के सदस्यों व समिति की ओर से समारोह में पहुंचे समाजसेवी संगठनों व शैक्षिणिक संस्था के पदाधिकारियों का फूलों व गुलदस्ता देकर सम्मान किया गया। समारोह के इस मौके पर मंत्री गुर्जर ने देश के समस्त शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि चाहे आजादी के शहीद या फिर अपने प्राणों का बलिदान देकर देश की सीमाओं पर रक्षा करने वाले शहीद है आज उन सभी को याद करने का दिन है।

अगर शहीद अपने प्राणों का बलिदान ना देते तो ना ही हम आजाद नहीं होते और ना ही हमारी सीमाओं की सुरक्षा होती। आज जो हम सुरक्षित हैं वह शहीदों की बदौलत हैं जिन्होंने हमारे आज के लिए अपने कल को न्यौंछावर कर दिया। शहीदों को अपने घरवालों के बजाय सिर्फ अपने देश की चिंता थी। गुर्जर ने कहा कि जो देश अपने शहीदों को भूल जाता है उनकी कुर्वानियों को भूल जाता है वह ज्यादा दिन स्वतंत्र नहीं रहता। उन्होंने कहा कि कश्मीर में से 370 व 35ए हटने का आज सबसे ज्यादा दर्द गांधी परिवार, मुक्ति परिवार व अब्दुल्ला परिवार को है।

कश्मीर पर उन्होंने कहा कि जो पिछले 70 साल में कोई दल कोई नेता नहीं कर पाया वह 70 मिनट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित साह ने कर दिखाया। उन्होंने कहा कि यह जनता की ताखत थी जो कि बीजेपी के नेताओं ने कश्मीर पर फैसले को तुरन्त प्रभाव से पारित कर दिया। आज देश का बच्चा-बच्चा भी इस चीज को जान गया है कि अगर नरेंद्र मोदी व अमित साह है तो सबकुछ मुमकीन है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कश्मीर घूमने वाल जनता सिर्फ यही कहेगी कि अगर देश में अगर स्वर्ग है तो वह सिर्फ कश्मीर में है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में औरंगजेब जैसे दिलेद हुए हैं जिनकी आतंकियों ने उस समय हत्या कर दी जब वह छुट्टी लेकर घर आए थे और औरंगजेब की माता ने कहा कि एक बेटे के बदले में दो और बेटे में सेना को देती हूं।

गुर्जर ने कहा कि हम शहीदों की कुर्वानी कभी नहीं भुला सकते क्योंकि उनके बलिदान के कारण ही आज हम सुरक्षित हैं। समारोह में गुर्जर ने शहीदों के परिजनों को स्मृति चिन्ह व शॉल भेंट कर उनका सम्मान किया। इसके अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले स्कूली छात्र-छात्राओं व सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों को भी सम्मानित किया गया।

इस मौके पर समारोह में यूपी के केंद्रीय मंत्री लक्ष्मीनारायण के प्रतिनिधि नरदेव सिंह, हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के पूर्व सदस्य सुरेंद्र सिंह उझीना, नगर परिषद चेयरपर्सन आशारानी तायल, पूर्व विधायक रामरतन, भगवान परशुराम सेवा समिति के जिला संयोजक लेखराज शर्मा, राजू तायल, रामनारायण भारद्वाज, यादगार सेवा समिति से समुंद्र सिंह हुड्डा, रामकिशन सिकरैया, हरेन्द्र सिंह, उदय सिंह सौरोत, आईएस मेमोरियल से देवेंद्र सिंह, मा.ज्ञान चंद, मा. हरद्वारी लाल, अनिल भारद्वाज, महेश गौड, नवीन शर्मा, योगेश सौरोत के अलावा सैकडों गणमान्य लोग मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।