कोरोना के योद्धा: स्लम में रहने वालों के लिए ऐसे मसीहा बनी मुंबई पुलिस
April 25th, 2020 | Post by :- | 40 Views

महाराष्ट्र के ज्वाइंट कमिश्नर विनय चौबे ने कहा कि मुंबई आर्थिक राजधानी है भारत की तो स्टॉक मार्केट से संबंधित एक्टिविटी को बिना परेशान किए जारी रखा गया. उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों के मजदूर जो यहां रह रहे हैं उन तक जरूरी सामान पहुंच जाए, इसकी व्यवस्था की गई.

‘कोरोना योद्धा’ महाराष्ट्र के ज्वाइंट कमिश्नर विनय चौबे ने मुंबई में पुलिस द्वारा उठाए किए जा रहे कामों पर खुलकर बात की. उन्होंने बताया कि कहा कि मुंबई में झुग्गियां और उसमें रहने वाले लोगों की संख्या काफी ज्यादा है, इसलिए उन्होंने जो मॉडल अख्तियार किया है इसमें इस बात का खास ख्याल रखा गया. जो नॉर्मल सोसाइटीज हैं उनकी समस्याओं को अलग तरीके से हैंडल किया गया. इसके अलावा धारावा, वर्ली, कोलीवाड़ा समेत ऐसे इलाकों की समस्याएं अलग थीं तो इन्हें अलग तरह से हैंडल किया गया.

बांद्रा में एक साथ हजारों मजदूरों के सड़क पर आ जाने की घटना पर उन्होंने कहा कि मजदूरों को आशा थी कि लॉकडाउन खत्म होते ही वो जहां से आए हैं, वहां चले जाएंगे. लेकिन लॉकडाउन के बढ़ने से यह नहीं हो सका. जिस जगह पर वो जमा हुए थे वो रेलवे स्टेशन के पास का इलाका है, वहीं एक झुग्गी है जहां वो रह रहे थे. ये सब लोग खाने के लिए रोज जहां एकत्रित होते थे वहीं उस दिन भी जुटे थे. उस दिन भी वो अचानक वहां आए और उनकी मांग थी कि उन्हें वापस उस जगह पहुंचा दिया जाए जहां से वो आए हैं. हालांकि, उन्हें समझाकर वहां से हटाया गया.

उन्होंने आगे बताया कि मुंबई पुलिस ने इस दौरान काफी टारगेटेड एप्रोच रखी. मुंबई आर्थिक राजधानी है भारत की तो स्टॉक मार्केट से संबंधित एक्टिविटी को बिना परेशान किए जारी रखा गया. उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों के मजदूर जो यहां रह रहे हैं उन तक जरूरी सामान पहुंच जाए और जिनके पास सुविधा नहीं है खाना बनाने की उन्हें समय से पका हुआ खाना मिले, इस पर हमलोगों ने काम किया है. इसे पुलिस की ड्यूटी चार्टर में ही रखा गया है.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।