दून विधानसभा क्षेत्र के लोग भोले भाले , नहीं जानते हेर-फेर: परमजीत सिंह पम्मी विधायक दून
April 25th, 2020 | Post by :- | 952 Views
  • विधायक ने की सीएम ने भावुक अपील ।
  • कफ्र्यू के दौरान दर्ज हुए केस रद करने की मांग।

बददी, 24 अप्रैल । ॠषी ठाकुर/राज कश्यप 

दून विधानसभा हलकेे के विधायक परमजीत सिंह पम्मी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से एक भावुक अपील करतेे हुए लॉक डाउन और कफ्र्यू के सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वालों के खिलाफ पुलिस द्वारा बनाए गए केेस वापिस लेने की मांग की है।।
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को लिखे गए पत्र में विधायक ने कहा कि इस दौरान पुलिस द्वारा जो भी मामले पुलिस द्वारा बनाए गए हैं उन्हें वापिस लिया जाए। क्योंकि इनमें से गई लोग ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार कफ्र्यू और लॉक डाउन का सामना किया है।।
कई लोगों को सोश्ल मीडिया के इस्तेमाल की पूर्ण जानकारी नहीं है।।जिसके चलतेे कुछ युवाओं, महिलाओं और अन्य लोगों ने भावुकतावश कई बार सोशल मीडिया पर कानून की नजर में आपराधिक पोस्टें शेयर कर दीं।।
विधायक ने अपने पत्र में कहा कि फेसबुक जैसी सोशल साइट पर मेरे विधायसभा हलके के लोगों द्वारा डाली गई पोस्टें अवश्य ही आपराधिक श्रेणी में आती हैं, मगर उसके पीछे उनकी मंशा किसी को आहत करने की कतई नहीं रही होंगी।।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण लोगों का बाहर निकलना बिल्कुल बंद किया गया है। इसलिए कई लोग अपने मन की बात कहने के लिए कोई न कोई जरिया अवश्य खोजते हैं।।
विधायक परमजीत सिंह ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को लिखे पत्र में बताया कि बददी-बरोटीवाला-नालागढ़ पुलिस थानों में क्षेत्र में कुछ लोगों को जिन्हें कफ्र्यू के बारे ज्ञान नहीं था न ही इतना लोगों को मालूम होता है पहली बार क्षेत्र में कफ्र्यू लगा तो कुछ युवाओं ने गाडिय़ों, फेसबुक व अन्य सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट कर दिया।।
विधायक ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से इन मामलों को वापिस लेने की मांग की। उन्होंने कहा कि मेरे विधानसभा हलके के लोगों की मंशा अवश्य ही किसी को ठेस पहुंचाने की नहीं रही होगी।।
अनजाने में कुछ लोग भावुकता में आकर सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल कर बैठते हैं।।
उन्होंने कहा कि मेरे विधानसभा हलके केे लोग भोले-भाले हैं, यहां केे लोग ’हेर-फेर करना नहीं समझते।।
उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और पुलिस महानिदेशक से दून विधानसभा क्षेत्र के लोगों पर लॉकडाउन और कफ्र्यू के दौरान दर्ज केेस वापिस लेने की मांग की है

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।