प्रवासी श्रमिक सरकारी स्कूल के भवन को स्वेच्छा से रंग रोगन करके कर रहे है अपनी प्रतिभा उजागर।
April 24th, 2020 | Post by :- | 33 Views

अम्बाला:शहजादपुर:(अशोक शर्मा)
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कक्ड़माजरा के भवन में जल्द ही निखार नजर आने लगेगा। इस स्कूल के भवन में निखार लाने की यहां ठहरे प्रवासी श्रमिकों ने ठानी है। प्रशासन द्वारा इस स्कूल में बनाये गये अस्थाई शेल्टर होम में 113 श्रमिकों/कामगारों को लॉकडाउन की अवधि के दौरान ठहराया गया है। जिनके लिए रहने व खाने आदि की व्यवस्था की गई है। इन प्रवासी मजदूरों में से कुछ श्रमिक जहां अपनी स्वेच्छा से स्कूल के भवन को रंग रोगन कर रहे है वहीं कुछ ने खाली जगह को साफ कर वहां पर सब्जी आदि फल-फूल के पौधे लगाने के लिए तैयार कर रहे है। स्कूल के गमलों को सुन्दर व मनमौहक बनाने के लिए वे गमलों को भी पैंट करके आर्कषक बनायेगें। एसडीएम अदिति ने कहा कि प्रवासी श्रमिक स्वेच्छा से ऐसा कर रहे है, वह काबिले तारिफ है।
लॉकडाउन के दौरान खाली समय का सदपयोग करने के लिए ये श्रमिक भवन पर रंगरोगन करके जहां अपनी प्रतिभा को उजागर कर रहे है वहीं कुछ मैदान से घास आदि साफ कर सब्जी लगाने में अपना योगदान दे रहे है। इनका कहना है कि स्कूल एक सरकारी संस्थान है और यहां पर अगर वे रहने के दौरान अपनी कला को रंगरोगन के माध्यम से प्रदर्शित करके जाते है तो लॉकडाउन के उपरांत जब स्कूल खुलेगें और वे यहां से चले जाएगें तो बच्चे तथा अध्यापक उनके इस कार्य को देखकर अभिभूत होगें व याद अवश्य करेगें।
उल्लेखनीय है कि यहां की व्यवस्थाएं देखने के लिए जिन भी अधिकारियों/कर्मचारियों व अध्यापकों की डयूटी लगाई गई है, वे एसडीएम अदिति के मार्गदर्शन में अपनी-अपनी जिम्मेवारी का निर्वहन बेहत्तर ढंग से कर रहे है। शेल्टर होम की नोडल ऑफिसर खण्ड़ शिक्षा अधिकारी शहजादपुर ज्योति सभ्रवाल को लगाया गया है। जोकि ग्राम पंचायत व गुरूद्वारा टोका साहब के सहयोग से अस्थाई शेल्टर होम में रह रहे प्रवासी श्रमिकों के भोजन आदि की व्यवस्थाओं की देखरेख अपनी डयूटी के साथ-साथ एक समाज सेवा का कार्य समझ कर भी कर रही है। गौरतलब है कि यहां रह रहे प्रवासी श्रमिकों की नियमित तौर पर स्वास्थय की जांच भी करवाई जा रही है

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।