समाज सेवी गुरचरण सिंह बब्बू रोजाना 900 लोगों के घर पहुंचा रहा है खाना
April 24th, 2020 | Post by :- | 97 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।      इस्माईलाबाद     :     जब समाज ओर देश का कठिन दौर से गुजर रहे हो, तब एक-एक व्यक्ति का सहयोग इस कठिन दौर को सहज कर सकता है। इस डगर को ओर सरल बनाने के लिए अगर एक-एक व्यक्ति संकल्प ले तो निश्चित ही कोरोना वायरस जैसी वैश्विक महामारी को हराने में देर नहीं लगाएगा। जी हां कुछ ऐसा ही संकल्प इस्माईलाबाद के समाज सेवी गुरचरण सिंह बब्बू ने लिया है। इस व्यक्ति ने लॉकडाउन होते ही जरुरतमंद लोगों की सेवा करने के संकल्प को पूरा करने का काम किया और रोजाना करीब 900 जरुरतमंद लोगों को घर-घर खाना पहुंचा रहा है।
वंड चखो कीरत करो के महान गुरू गुरूनानक देव उपदेश को अपने जीवन में धारण करने वाले इस्माईलाबाद के गुरचरण ङ्क्षसह बब्बू लॉकडाउन के दौर में लंगर सेवा जरूरतमंदों तक पहुंचाने में दिन रात एक किए हुए हैं। उनके मार्गदर्शन में गुरूद्वारा साहिब में 32 दिन से लगातार लंगर तैयार किया जा रहा है। उनके अनुसार यह तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र सरकार लाक डाउन खोलने का ऐलान नहीं करती है। पेशे से किसान गुरचरण सिंह बबू ने बताया कि जब लाक डाउन का ऐलान हुआ तो पहले ही दिन बाजार सूना देखा। यहीं से मन में विचार कौंधा की रेहड़ी, फड़ी, दैनिक मजदूरी करने वाले कहां से खाएंगे। इससे अधिक चिंता प्रवासी मजदूरों के बच्चों और झुग्गी झोंपड़ी वालों की हुई।
उन्होंने अपने विचार नगरपालिका चेयरमैन संजीव अरोड़ा से सांझा किए। दोनों ने गुरूद्वारा साहिब का दरवाजा खटखटाया। कमेटी के हौसला बढ़ाने पर गुरूद्वारा साहिब में लंगर आरंभ कर दिया गया। इसके बाद पूरे गांव से मदद की अपील की गई। बस फिर क्या था गांव के लोगों से ही नहीं विदेशों तक से सोशल मीडिया के जरिये मदद मिलने लगी। पहले लंगर सेवा 21 दिन चलाने की योजना थी। केंद्र सरकार ने दोबारा 3 मई तक लाक डाउन बढ़ाया तो लंगर न रोकने का ऐलान कर दिया गया। गुचरण सिंह बबू कहते हैं कि बाबे नानक एक ही गल कई ऐ के वंड चखो कीरत करो, उन्हां दी ही कृपा है कि असी अज दिन रात सेवा करदे पए आं। करीब 900 लोगों का हर रोज खाना खिलाया जा रहा है। सवेरे ही लंगर तैयार कर लिया जाता है। इसके बाद युवाओं की अलग अलग टीमें पैकिंग और बाइक पर घर घर तक पहुंचाने में जुट जाती हैं।
इस सेवा में महिलाएं भी पीछे नहीं रही। जो कि लगातार श्रम सेवा करती आ रही हैं। एक दर्जन महिलाएं हर रोज रोटियां बनाने पहुंच जाती हैं। जो कि पूरा भोजन तैयार करने के बाद काम निपटा कर अपने घर वापिस जाती हैं। गुरूद्वारा साहिब में सेवा के लिए आने वाले सभी सेवकों को मास्क सुविधा दी जाती है और पहले बाकायदा सैनिटाइज किया जाता है। आमजन से अपील के बाद से ही आटा, चावल, नमक, चीनी, दाल, सब्जी दान स्वरूप गुरूद्वारा साहिब में पहुंच रही है। इसके साथ ही दुकानदार भी गर्म मसाला, हल्दी, मिर्च भी हर रोज पहुंचा रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।