कच्चे तेल की कीमत में आई गिरावट से आमजनमानस को मिले फायदा : विजय बंसल।
April 24th, 2020 | Post by :- | 53 Views

कालका-चन्दरकान्त शर्मा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में जबरदस्त गिरावट हुई है, इस समय कच्चे तेल की कीमत शून्य डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई है। इतिहास में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ है लेकिन इस गिरावट का अभी तक अपने देश में कोई असर होता दिख नहीं रहा है। यह कहना शिवालिक विकास मंच के अध्यक्ष व हरियाणा सरकार में चेयरमेन रह चुके विजय बंसल एडवोकेट का है। विजय बंसल का कहना है कि इस गिरावट का देश की जनता को फायदा होना चाहिए। विजय बंसल ने कहा कि 7 साल पहले 2013 में कच्चे तेल की कीमत 108 डॉलर प्रति बैरल थी जोकि मार्च 2020 में घटकर लगभग 30 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई। इससे भारत में पेट्रोल, डीजल की कीमतों में भी कमी आनी चाहिए थी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। बंसल ने कहा कि पहले भी जब-जब कच्चे तेल की कीमतें कम हुई हैं, उसका जनता को फायदा नहीं हुआ। इस बार तो कच्चे तेल की कीमत शून्य तक पहुंच गई है। इस बार तो सरकार को चाहिए कि लोगों को राहत दी जाए पर लेकिन आमजनमानस को फायदा न पहुंचाकर कॉरपोरेट्स की जेबे भरने पर लगी हुई है।

विजय बंसल ने कहा कि पेट्रोल, डीजल की लागत देश में सभी आवश्यक वस्तुओं पर सीधे प्रभाव डालती है। पेट्रोल, डीजल की कीमतें घटने व बढ़ने के कारण ट्रांसपोर्ट की लागत कम नहीं होती है। इसके अलावा, बंसल ने सरकार से अपील की कि लॉकडाउन के कारण नौकरियों और आय के नुकसान के कारण आम आदमी पहले से ही भारी वित्तीय समस्याओं से जूझ रहा है, अगर सरकार कीमतें कम करती है तो यह लोगों के लिए बड़ी राहत होगी।

विजय बंसल ने बताया कि जिला पंचकूला में पेट्रोल डीजल पर वैसे ही वेट टैक्स ज्यादा है जबकि पंजाब हिमाचल में फिर भी वैट कम है।हिमाचल में लगभग ढाई से तीन रुपए प्रति लीटर तो चंडीगढ़ के अनुरूप पंजाब में भी 4 से 5 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल व डीजल सस्ता है पर लेकिन जिला पंचकूला में वैट ज्यादा होने के कारण तेल महंगा है व अब कच्चे तेल की कीमतें कम होने के बावजूद भी जनता को तेल महंगा मिलेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।