स्वयं सहायता समूहों व महिला मण्डलों ने तैयार किए 50 हजार माॅस्क: डीसी
April 23rd, 2020 | Post by :- | 171 Views

कुल्लू :- ( दिलाराम भारद्वाज ब्यूरो चीफ ) उपायुक्त डाॅ. ऋचा वर्मा ने बताया कि जिला के विभिन्न विकास खण्डों में स्वयं सहायता समूहों तथा महिला मण्डलों द्वारा लगभग 50,000 माॅस्क तैयार किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि माॅस्क को गांवों में प्रत्येक व्यक्ति को उपलब्ध करवाने के लिए परियोजना अधिकारी डीआरडीए तथा समस्त खण्ड विकास अधिकारियों के माध्यम से अधिक से अधिक माॅस्क तेयार करवाने का जिम्मा सौंपा गया है।
उन्होंने कहा कि जिला के सभी विकास खण्डों में अनेक स्वयं सहायता समूह तथा महिला मण्डल माॅस्क बनाने के कार्य में जुटे हैं।

खण्डवार यदि बात की जाए तो विकास खण्ड कुल्लू में अभी तक 3500, बंजार में 12500, नग्गर में 4000, आनी में 21000 तथा निरमण्ड में 7000 माॅस्क तैयार किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि ये माॅस्क पंचायती राज प्रतिनिधियों के माध्यम से लोगों में वितरित किए जा रहे हैं और इनका मूल्य केवल 10 से 15 रुपये प्रति माॅस्क निर्धारित किया गया है। अच्छी बात यह है कि सूती वस्त्र से तैयार किए जा रहे ये माॅस्क बार-बार उपयोग में लाए जा सकते हैं। इन्हें हर रोज अच्छे से धोना पड़ता है। अनेक गांवों में पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधि निःशुल्क माॅस्क भी लोगों को प्रदान कर रहे हैं ताकि कोई एक भी व्यक्ति बिना माॅस्क के घर से बाहर न निकले।
डाॅ. ऋचा वर्मा ने बताया कि कुल्लू विकास खण्ड की शिलाई अध्यापिका रीना देवी ने क्षेत्रीय अस्पताल के लिए 1000 पीपीई किटें तैयार की हैं जो सराहनीय प्रयास है।

उन्होंने कहा कि स्वयं सहायता समूहों और महिला मण्डलों द्वारा माॅस्क बनाने के कार्य में किया जा रहा योगदान सराहनीय है।
डाॅ. ऋचा वर्मा ने कहा कि जिला में कानून व व्यवस्था की स्थिति हो, या फिर कोरोना के ऐहतियाती उपायों से जुड़े मुद्दे हो, कहीं पर भी बड़ा उल्लंघन लोगों ने नहीं किया है। जिला में अभी तक एक भी मामला कोरोना पाॅजीटिव का नहीं है। जांच के लिए अभी तक भेजे गए सभी नमूनों की रिपोर्ट निगेटिव आई है और जिला प्रशासन भविष्य में भी यही अपेक्षा करता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।