आवश्यक सेवाओं के अतिरिक्त अन्य वाहनों के करें चालान: उपायुक्त
April 22nd, 2020 | Post by :- | 66 Views

सोनीपत :      कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए उपायुक्त डा. अंशज सिंह ने कड़े आदेश दिए हैं कि सडक़ों पर बिना अनुमति के चलने वाले वाहनों के चालान किए जाएं। उन्होंने कहा कि आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों को छूट दी गई है। इनके अलावा बेवजह सडक़ों पर चल रहे वाहनों पर लगाम लगाई जाए।

उपायुक्त डा. अंशज सिंह बुधवार को नगर के दौरे पर थे। उन्होंने विशेष रूप से सिंघू बॉर्डर और गढ़ मिरकपुर पुलिस नाका की जांच की। उन्होंने ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि लॉकडाउन की उल्लंघना करने वालों के साथ सख्त कार्रवाई करें। कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन की अनुपालना जरूरी है। ऐसे में यदि बिना अनुमति के कोई सडक़ों पर दिखाई देता है उसे पकडक़र चालान की कार्रवाई की जाए।

इस दौरान उपायुक्त डा. सिंह ने रसोई गांव का भी दौरा किया, जिसे कोरोना पोजिटिव केस मिलने के कारण सील कर रखा है। उन्होंने गांव की सीलिंग व्यवस्था का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सील किए गए क्षेत्र में किसी भी व्यक्ति को प्रवेश की अनुमति नहीं है। न ही कोई व्यक्ति क्षेत्र से बाहर जा सकता है। उन्होंने संबंधित ड्यूटी मजिस्ट्रेट से रिपोर्ट लेते हुए जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

उपायुक्त ने विभिन्न खरीद केंद्रों का भी निरीक्षण किया। उन्होंने विशेष रूप से खेवड़ा आदि स्थानों पर बनाये गये खरीद केंद्रों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने विशेष रूप से गेहूं की खरीद की समीक्षा की। साथ ही उन्होंने खरीद केंद्रों में कोविड-19 की रोकथाम के लिए किये गये बंदोबस्त का भी जायजा लिया। उन्होंने कहा कि खरीद केंद्र में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति की जांच होनी चाहिए। श्रमिकों व किसानों तथा कर्मचारियों के लिए हाथ धोने की विशेष व्यवस्था होनी चाहिए। साथ ही मास्क व सैनेटाईजर का प्रबंध किया जाए।

इस मौके पर मौजूद एसडीएम आशुतोष राजन ने कहा कि उपायुक्त के निर्देशन में हर प्रकार की बेहतरीन व्यवस्थाएं की गई हैं। सीलिंग क्षेत्रों में बाहरी हस्तक्षेप पूर्णरूप से निषेध है। खरीद केंद्रों में सभी इंतजाम सही मिले हैं। इस अवसर पर अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।