दंतेवाड़ा उपचुनाव – शिवसेना ने भी ख़ेला दांव, उतारा प्रत्याशी के रूप में समाजसेवी जयराम कश्यप को
September 2nd, 2019 | Post by :- | 168 Views

छत्तीसगढ़ (रायपुर) लोकहित एक्सप्रेस । दंतेवाड़ा उपचुनाव का माहौल और भी गरमाने लगा है, अब इस चुनावी दंगल में भाजपा – कांग्रेस के बाद आम आदमी पार्टी , बहुजन समाज पार्टी और जनता कांग्रेस के बाद शिवसेना ने भी अपने प्रत्याशी की घोषणा कर दिया है।

शिवसेना प्रदेश महासचिव चंद्रमौली मिश्र ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा हैकि प्रदेश कि जनता विगत 15 वर्षों से प्रदेश में भाजपा के भ्रष्टाचार से त्रस्त थी जिस भ्रष्टाचार को दुर करने हेतु प्रदेश की जनता ने प्रदेश में पुर्ण बहुमत से कांग्रेस कि सरकार को काबीज कराया था।

किन्तु लगभग 6 महीने होने को आऐ हैं आम जनता को प्रदेश में कोई परिवर्तन नही दिख रहा है और निरंतर प्रदेश कि आम जनता परेशान हो रही है विगत 34 वर्षों से शिवसेना पार्टी द्वारा निरंतर छत्तीसगढ़ प्रदेश में आम जनता के हक और अधिकार कि लडाई लड़ रही है और गरीब जनता को उसका हक और अधिकार दिलाने का प्रयास कर रही है।

मिश्र ने लिखा हैकि पुरे छत्तीसगढ प्रदेश मे जहां भी आम जनता के ऊपर कही कोई अन्याय, अत्याचार, शोषण, दमन, भ्रष्टाचार होता है तो शिवसेना आम जनता का ढाल बनकर खड़ी हो जाती है।

आपको अवगत करादेकि विगत समय शिवसेना छत्तीसगढ़ ने आम चुनाव में भी हिस्सा लिया था, परंतु शिवसेना की मध्य व दक्षिण बस्तर क्षेत्र में असक्रियता के कारण जनता का ध्यानाकर्षण नही हुआ।

वहीं लोहंडीगुड़ा विधानसभा क्षेत्र के शिवसेना प्रत्याशी सर्गिम कवासी को उनके सक्रियता व मिलनसार स्वभाव के चलते विधानसभा क्षेत्र में जनता ने खूब समर्थन दिया।

हालांकि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़, शिवसेना व आम आदमी पार्टी का दक्षिण बस्तर में सक्रियता केवल राजनैतिक साख बचाने मात्र के लिए ही है व इनमें से किसी भी संगठन की कार्यकारिणी तक अबतक पूर्ण नही है बावजूद दौड़ में शामिल होने सभी ने अपना प्रत्याशी उतार दो दिया है और इसी कड़ी में अभी दंतेवाडा में हो रहे विधानसभा उपचुनाव मे शिवसेना ने छेत्र के समाजसेवक जयराम कश्यप को अपना उम्मीदवार बनाया है। 

वर्षों से बस्तर का यह क्षेत्र नक्सल गतिविधियों के कारण विकास से अछूता रहा है, दंतेवाड़ा के आमनागरिकों को इंतज़ार उस समय का है जब कोई जननायक विधायक के तौर पर चुनकर आये और दंतेवाड़ा में नक्सल समस्याओं को पूर्णतः समाप्त कर भाषणों में बताया जाने वाला विकासगंगा यहां तक पहुंचाकर जनता के सामने एक सुदृढ़ विकल्प साबित हो सकें।

बहरहाल राष्ट्रीय दलों सहित कई क्षेत्रीय दलों द्वारा प्रत्याशी तो उतारा जा रहा है परंतु इस क्षेत्र के आम जनता, गरीब, किसान, बेरोजगार युवाओं, मजदुरों के उत्थान के लिए ठोस योजना किसी के पास नज़र नही आ रही है।

दंतेवाड़ा की चुनावी मौसम यह साफ़ साबित कर रही हैं सभी राजनैतिक दल यहां केवल अपनी साख बचाने के लिए सक्रियता दिखा रहे हैं। 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।