लॉकडाउन मे धड़ल्ले से चोरी छुपे दोगुनी रेट पर बेचा जा रहा है गुटका तंबाकू
April 21st, 2020 | Post by :- | 69 Views

लॉकडाउन मे धड़ल्ले से चोरी छुपे दोगुनी रेट पर बेचा जा रहा है गुटका तंबाक

खेरली कस्बे में लॉकडाउन मे नशे का अवैध कारोबार तेजी से बढ़ गया है जिसके चलते गुटका तंबाकू की डिमांड ज्यादा और स्टोक नही होने के कारण लोग मनमानी रेटो पर इनकी कालाबाजारी कर रहे है जिस पर प्रशासन द्धारा इन अवैध कारोबारियों के खिलाफ कोई भी कार्यवाही नही की जा रही है। जानकारी के अनुसार कस्बे मे लॉकडाउन मे नशे का अवैध रुप से कारोबार तेजी से बढ़ गया है वही उपलब्धता कम और डिमांड अधिक होने के कारण खेरली कस्बे में गुटखा, तंबाकू बीड़ी सिगरेट आदि का नशा तिगुने दामो पर किया जा रहा है जिस पर इन अवैध कारोबारियों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई नही की जा रही है वही आपको बता दे की लॉकडाउन के कारण गुटखा तंबाकू सहित बीड़ी सिगरेट की फैक्ट्रियां पिछले करीब एक माह से बंद पडी हुई है जिनमे इस दौरान उत्पादन भी बंद है वही इस लॉकडाउन के चलते गुटखा तंबाकू बीड़ी सिगरेट जैसी नशीली चीजो की बाजार बिक्री पर रोक है लेकिन ऐसे मे खेरली कस्बे मे अवैध रुप से इनका धंधा करने वाले कारोबारी पनप गऐ है।वही जिन लोगो पर इन सब चीजो का स्टॉक पडा हुआ है वह लोग चोरी छुपे मनमाने दामो पर ब्लैक मे लोगो को बेच रहे है।वही यदि इन सब चीजो की बात करे तो 5 रुपये वाला गुटखा 10 रुपये,10 रुपये वाला गुटखा 20 से 25रुपये,17 रुपये वाला बीडी का बंडल 50से 60 रुपये मे धड़ल्ले से बेचा जा रहा है।वही यह लोग गुटखा तंबाकू बीड़ी सिगरेट के अलावा नशीली चीजो को भी दोगुनी, तीगुनी रेटो पर बेची जा रही है।
………………………………
गुटखा तंबाकू के इधर उधर थूक देने से संक्रमण का पूरा खतरा
……………………………….
लोगो द्धारा गुटखा व तंबाकू खाकर इधर- उधर थूक देते है जिसके कारण कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा भी बढता है इसके चलते सरकार और प्रशासन ने लॉकडाउन की गाइडलाइंस के चलते गुटखा तंबाकू बीड़ी सिगरेट आदि पर प्रतिबंध लगा रखा है।वही कठूमर विधायक बाबूलाल बैरवा द्धारा इस संबंध मे जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह को पत्र लिखा जिसमे उन्होंने बताया की कस्बे मे कठूमर सहित खेरली इलाके मे खुले मे गुटखा तंबाकू बहुत मंहगा बिक रहा है जिसमे 350 रुपये के पैकट के दस गुना अधिक 3500 रुपये दाम लोगो से बसूल कर धड़ल्ले से बेचा जा रहा है वही उन्होने बताया की फूटकर व्यापारी इसे लोगो को और भी मंहगा बेच रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।