थानाध्यक्ष बृजमनगंज पर कार्यवाई की मांग को लेकर पुलिस अधीक्षक को दिया ज्ञापन
April 21st, 2020 | Post by :- | 191 Views

महराजगंज, बृजमनगंज थाने में सिपाही द्वारा दो लोगों को मारने पीटने का वीडियो वायरल होने का मामला और भी तूल पकड़ता जा रहा है। जिसके संबंध में मंगलवार को पीड़ित व बृजमनगंज व्यापार प्रतिनिधित्व मंडल ने पुलिस अधीक्षक महराजगंज को ज्ञापन दे कर अवगत कराया कि ग्राम करमहा निवासी गोमती अग्रहरी सहित कुल छह लोगों को थाने के अंदर बरामदे में थानाध्यक्ष बृजमनगंज की मौजूदगी में सिपाही परमहंस गौंड द्वारा पट्टे से बुरी तरह मारा पीटा गया। इसके बाद भी अभी तक थानाध्यक्ष के ऊपर कोई कार्रवाई नही किया गया। जिससे पीड़ित सहित क्षेत्र के सर्वसमाज दुखी है। थानाध्यक्ष सहित अन्य दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग के संबंध में पुलिस अधीक्षक को संबोधित ज्ञापन सौंपा। साथ ही ज्ञापन के माध्यम से दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई न होने पर 26 अप्रैल को लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने-अपने घरों के बालकनी पर धरने पर बैठने की चेतावनी दिया। इस दौरान व्यापार मंडल संरक्षक विनोद जायसवाल, अध्यक्ष किशन जायसवाल, पीड़ित गोमती अग्रहरी मौजूद रहे।

एसओ की भूमिका के जांच की उठ रही मांग

बताते चले कि वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधीक्षक द्वारा पिटाई करने वाले सिपाही को निलंबित किया गया तथा एक सिपाही व एक एसआई को लाइन हाजिर किया गया। इस कार्रवाई से स्थानीय जनप्रतिनिधि संतुष्ट नही है जनप्रतिनिधियों का कहना है कि केवल सिपाही को निलंबित करने से पीड़ित को न्याय नही मिलेगा। जब तक किसी जिम्मेदार अधिकारी के ऊपर कार्रवाई नही किया जाता तब तक पीड़ित के साथ न्याय नही होगा। व्यापार मंडल संरक्षक विनोद जायसवाल ने कहा कि थाने के अंदर सिपाही द्वारा बेरहमी से लोगों की पिटाई की जाती है और इस मामले के पर 18 दिन बाद वीडियो वायरल होने के बाद कार्रवाई की जाती है। इस मामले में थानाध्यक्ष की भूमिका की जांच होनी चाहिए। व्यापार मंडल अध्यक्ष किशन जायसवाल ने आलाधिकारियों से मांग किया कि थानाध्यक्ष द्वारा मामले की जानकारी होते हुए भी 18 दिनों तक दबाया गया। सिपाही के साथ थानाध्यक्ष भी दोषी है उन पर भी कार्रवाई होनी चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।