कोरोना को रोकने के लिए हरियाणा के ताकतवर कदम बढ़ रहें है निरन्तर आगे:–गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज।
April 21st, 2020 | Post by :- | 149 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा) हरियाणा प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के ठीक होने का प्रतिशत हैं लगभग 57 प्रतिशत जबकि देश में ठीक होने का प्रतिशत है करीब 17 प्रतिशतप्रदेश में कोरोना के हैं 108 एक्टिव पेशेंट प्रदेश में मृत्यु दर है केवल 0.79 प्रतिशत जबकि देश में मृत्यु दर हैं 3.15 प्रतिशत–
अम्बाला, 21 अप्रैल:- हरियाणा के गृह, स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा प्रदेश सरकार का ताकतवर अमला कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिए निरंन्तर आगे बढ़ रहा हैं। अन्य राज्यों की तुलना में प्रदेश में संक्रमण फैलने से रोकने के प्रयास पूरी चरम सीमा पर हैं। फ्रंट-फुट की लड़ाई लड़ रहे कोरोना योद्घाओं के कारण प्रदेश का रिकवरी रेट करीब 57 प्रतिशत हैं, प्रदेश में मृत्यु दर है केवल 0.79 जबकि देश में मृत्यु दर 3.15 प्रतिशत हैं। इस प्रकार हरियाणा प्रदेश प्रयासों की निरन्तरता में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए निरन्तर अपने ताकतवर कदम आगे बढ़ रहा हैं और आने वाले समय मे कोरोना पर पूरी तरह नियंत्रण करके इसे खत्म कर दिया जाएगा।
गृह मंत्री ने कहा कि इस महामारी से समूचा विश्व परेशान है। भारत भी इससे अछुता नहीं हैं। जहां तक हरियाणा का सवाल है, हरियाणा राज्य में जनता के सहयोग से हम निरन्तर आगे बढ़ रहे है । सरकार और प्रशासनिक अमला लॉकडाउन के तहत लोगों को निरन्तरता में जागरूक करने का काम कर रहा हैं। उन्होनें यह भी कहा कि समाज सेवी संस्थाओं का लॉकडाउन की पालना में बेहतरीन योगदान रहा हैं। उन्होनें लोगों से अपील की कि वे इस महामारी को खत्म करने में सरकार और प्रशासन का सहयोग करें। किसी भी तरह की अफवाह न फैलाएं। यदि कोई ऐसा करता पाया जाता है, तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का प्रावधान हैं।
उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की सीमाओं को पहले ही सील कर दिया गया हैं। डॉक्टरों के पास पर्याप्त संख्या में उपकरण हैं। संक्रमण की जांच के लिए तुरन्त कार्रवाई की जा रही हैं। फ्रंटफुट पर लड़ाई लडऩे वाले डॉक्टरों, नर्सो, पैरा वालंटियर, पुलिस, सफाई कर्मियों को शाबाशी देते हुए विज ने कहा कि हम सबके सांझे प्रयास कोरोना वायरस को हराकर ही दम लेगें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।