श्री वैश्य अग्रवाल सभा सभी जातियों के जरूरतमंदों को भोजन एवं खाद्य सामग्री कर रही है वितरित|
April 21st, 2020 | Post by :- | 198 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट):-  लॉक डाउन के चलते सामाजिक संस्था श्री वैश्य अग्रवाल सभा पलवल जहां सभी जातियों के जरूरतमंदों को भोजन एवं खाद्य सामग्री वितरित कर रही है वहीँ अग्रवाल समाज के कमजोर वर्ग के लोगों की पहचान करने तथा उन्हें इस मुसीबत की घड़ी में जरुरी सहयता उपलब्ध कराने के लिए अग्रवाल समाज के लोगों को सन्देश भेज कर अपील कर रही है की वह अग्रवाल समाज के ऐसे लोगों को पता लगाएं जिन्हें ऐसे समय में जिन्हें जरुरी सह्या की जरुरत हो।

सभा के अध्यक्ष ओमप्रकाश गुप्ता ने समाज के लोगों को भेजे संदेश में कहा है की हमारे समाज में अमीर तथा मध्यम वर्ग के साथ साथ कमजोर वर्ग के भी बहुत से लोग है,जिनमे से कोई छोटा व्यापार कर रहा है तो कोई छोटी मोटी सर्विस कर रहा हैं तथा हममें से ही कुछ ऐसे लोग भी हैं जो किसी न किसी रोजकार के माध्यम से रोज आजीवका कमा कर अपने बच्चो का पालन पोषण कर रहे हैं। इसलिए हमारा धर्म बनता है की 40 दिन के इतने लम्बे लॉक डाउन के समय में ऐसे कमजोर वर्ग के लोगों की हालात क्या हैं हमें उनकी पहचान कर उन्हें श्री वैश्य अग्रवाल सभा के माध्यम से सहयता प्रदान की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा की अग्रवाल समाज के लोग भले ही उन्हें किसी भी बड़ी से बड़ी परेशानी का सामना करना पड़े,लेकिन वह किसी के सामने हाथ नहीं फैलाते। इसलिएअग्रवाल बंधु अपनी गली,मोहल्लों,या आस पास कहीं भी अग्रवाल समाज के किसी ऐसे व्यक्ति को किसी भी तरह की कोई सहयता पहुचानी है तो निःसंकोच होकर अग्रवाल सभा के किसी पदाधिकारी,कोलिजियम सदस्य या सदस्य को जानकारी दें,जिससे की इस कठिन दौर में समाज के भाई की मददकी जा सके ।

उन्होंने कहा की कोरोना वैश्विक महामारी को भागने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने हमारे हित के लिए तीन मई तक लॉक डाउन किया हुआ है। उनके निर्देशों की पूर्ण पालना करते हुए सभी समाज के लोग अपने अपने घरों में रहकर ही प्रदेश सरकार तथा जिला प्रशासन का न केवल सहयोग कर रहे हैं,बल्कि समाज के सम्पन्न लोग एवं समाज की सामाजिक संस्थाएं जाति-बिरादरी से ऊपर उठकर सभी वर्ग के जरूरतमंदों को बना बनाये भोजन के साथ साथ सुखी खाद्य सामग्री एवं सुरक्षा के उपकरण भी मुहैय्या करा रही हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।