किसानों की प्याज व सब्जियों की सब्सिडी रिलीज करे बागवानी विभाग : प्रदीप चौधरी
April 21st, 2020 | Post by :- | 96 Views

पिंजौर (हरपाल सिंह) :

किसानों को पेश आ रही दिक्कतों को लेकर आज कालका से कांग्रेस पार्टी के विधायक प्रदीप चौधरी ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि किसान ऐसा तबका है, जो घाटे के बावजूद भी देश की जनता का पेट भरने के लिए खेती कर रहा है। परंतु उसे यदि किसी सरकारी क्षेत्र में कहीं राहत मिलती हो तो फिर वो राहत यदि लटका दी जाए तो फिर ऐसे में किसान कैसे समृद्ध बनेगा। सरकार और बागवानी और कृषि विभाग अपनी कमियों को दूर करके जल्दी से जल्द किसानों को मिलने वाली सब्सिडी और फसल बीमा योजना का लाभ किसानों तक पहुंचाए।विधायक प्रदीप चौधरी ने कहा कि मोरनी, रायपुररानी और पिंजौर क्षेत्र के सब्जी उगाने वाले किसानों को आज तक सब्सिडी नही दी गई है। जबकि किसान सभी शर्ते भी पूरी कर चूका है। किसानों को प्याज, टमाटर और अन्य प्रकार की सब्सिडी नही मिल पा रही है। इसके अलावा जिन किसानों ने प्याज स्टोर के लिए शेड बनाए, उन्हेें भी सब्सिडी नही मिल रही है। बागवानी डिपार्टमैंट शीघ्रता के साथ किसानों के खातों में सब्सिडी का पैसा ट्रांसफर करें।उन्होंने कहा कि गेंहू की फसल को लेकर भी किसान परेशान है। रायतन से दीनानाथ शर्मा, सोहनलाल, और दून से मान सिंह चरनियां, रविन्द्रपाल मैहता, रूलदू राम, रायपुररानी से जनकराज सैनी, प्रदीप शर्मा इत्यादि किसानों ने बताया कि काफी किसानों की फसल गेंहू का अनाज वाला ऊपरी हिस्सा काला पड़ जाने से गेंहू खराब हो गई है। जिससे किसान को भारी नुकसान हुआ है। किसानों की शिकायत आई है कि उनके द्धारा गेंहू की फसल को फसल बीमा योजना में डाला हुआ है परंतु फिर भी किसानों की फसलों की जांच नही की जा रही है और जिसके चलते किसानों को फसल बीमा योजना के तहत हर्जाना भी नही मिल पा रहा है। सरकार तुरंत एग्रीकच्लर विभाग की डयूटी लगाकार गेंहू की खराब फसल की मुआयना करके किसानों को राहत देने का काम करें। इस प्रकार की सरकारी योजनाओं का यही फायदा होता है, जब किसान की फसल खराब हो जाए तो फिर उन्हें तुरंत मुआवजा दिया जाए। अक्सर किसान मुआवजा के लिए भी भटकता रहता है

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।