बिना किसी लालच के सेवा के मैदान में उतरी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता–मास्क बनाकर वितरित कर रही हैं संस्थानों और अपने आस-पड़ौस में।
April 20th, 2020 | Post by :- | 116 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा) कोरोना रूपी महामारी ने पुरी दुनिया को अपने शिकंजे में जकड़ रखा है। भारत भी इससे अछुता नही है। कोरोना ने हरियाणा में भी अपने पैर पसार रहा है। हालांकि प्रदेश सरकार के प्रयासों से प्रदेश में स्थिती नियन्त्रण में है। सरकार के निर्देशों की अनुपालना में जिला प्रशासन में भी अपनी कमर कस रखी है। सभी विभाग अपने मोर्चे पर के संक्रमण को रोकने के कार्य के अलावा जनसेवा के कार्य में भी लगे हुए है। इन्ही विभागों में से एक है महिला एवं बाल विकास विभाग, जिसके तहत आंगनवाडी कार्यकर्ता अपनी डियुटी के अलावा अन्य समाजसेवी कार्य में सरकार और प्रशासन का भरपुर सहयोग दे रही है।
महिला एवं बाल विकास एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम लॉक डाउन की स्थिति में अपने दायित्व को बखूबी निभा रही हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग की आंगनवाड़ी वर्कर एवं हैल्पर निर्धारित जगहों पर जाकर लोगों को राशन उपलब्ध होने बारे जानकारी हासिल कर रही हैं, वहीं शैल्टर होम में रह रही महिलाओं के लिये सैनिटरी पैड भी उपलब्ध करवाए जा रहे हैं ताकि माहावारी में दौरान संक्रमण से बच सकें। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बिना किसी लालच के सेवा के कार्य को आगे बढ़ा रही हैं। मास्क बनाकर संस्थानों के साथ-साथ जरूरतमंदों को भी उपलब्ध करवा रही हैं। इसके अलावा कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने और लॉक डाउन की पालना करने बारे भी जन-जन को जागरूक कर रही हैं। इनके द्वारा किया गया कार्य अन्य के लिये भी प्रेरणा बनकर उभर रहा है।
महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी बलजीत कौर से जब इस विषय पर बात की गई तो उन्होने बताया कि उच्चाधिकारियों से मिले दिशा-निर्देशानुसार लॉक डाउन के शुरूआती दौर से ही उनके विभाग द्वारा महिलाओं के लिये कार्य बखूबी किये जा रहे है। जिला के सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में मास्क बनाने का काम किया जा रहा है तथा नारायणगढ़ स्थित चाईल्ड केयर सेंटर में यह मास्क भी उपलब्ध करवाए गए हैं। शैल्टर होम्ज में लगभग 129 महिलाएं रह रही हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जहां उनके स्वास्थ्य की जांच की जाती है, वहीं माहावारी के दौरान संक्रमण से बचाव के लिये उन्हें सैनिटरी पैड भी उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि गणेश विहार स्थित अस्थाई वन स्टॉप सेंटर के बारे में भी महिलाओं को जानकारी दी जा रही है। इसके साथ-साथ हैल्पलाईन नम्बर 181 की जानकारी भी दी गई है ताकि महिलाएं अपने साथ किसी भी तरह की अनहोनी की शिकायत इस नम्बर पर करके सहायता प्राप्त कर सकती हैं। उन्होंने यह भी बताया कि 21 शैल्टर होम में रह रही महिलाओं के स्वास्थ्य की जांच भी नियमित रूप से की गई है और उनके स्वास्थ्य की जांच के बाद उन्हें दवाईयां भी उपलब्ध करवाई गई हैं। महिलाओं को भी लॉक डाउन की स्थिति में धैर्य के साथ यहीं पर रहने के लिये जागरूक भी किया जा रहा है। उपायुक्त अशोक कुमार और जिला कार्यक्रम अधिकारी बलजीत कौर ने ऐसे आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सराहना करते हुए कहा कि समाज में अन्य को भी इनसे सेवा की सीख लेने की जरूरत है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।