केजरीवाल बोले- तब्लीगी जमात के चलते तेजी से बढ़े मामले
April 19th, 2020 | Post by :- | 140 Views

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। भारत में संक्रमित शहरों में दिल्ली दूसरे नंबर पर है। ऐसे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 20 अप्रैल से दिल्ली में कोई भी छूट ना देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा, लॉकडाउन जरूरी है। अपने दिल्लीवासियों की जिंदगी का ख्याल रखते हुए हमने फैसला लिया है कि फिलहाल लॉकडाउन की शर्तों में कोई ढिलाई नहीं दी जाएगी। एक हफ्ते बाद हम दोबारा विशेषज्ञों के साथ बैठकर रिव्यू करेंगे और जरूरत पड़ी तो ढिलाई दे सकते हैं।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल को लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया। इस दौरान उन्होंने कहा था कि स्थिति को देखते हुए राज्य अपने अपने स्तर पर कुछ ढील दे सकते हैं। केजरीवाल ने कहा, केंद्र सरकार का कहना है कि जो हॉट स्पॉट और कंटेनमेंट जोन हैं, उनमें फिलहाल ढील नहीं दी जानी चाहिए। दिल्ली में 11 जिले हैं और 11 के 11 जिले हॉट स्पॉट घोषित किए गए हैं। केंद्र सरकार के मुताबिक कंटेनमेंट जोन में ढील नहीं दी जा सकती।

केजरीवाल ने कहा, आज दिल्ली में 77 कंटेनमेंट जोन हैं। दिल्ली में कोरोना तेजी से फैल रहा है। आज दिल्ली में 1,893 केस हैं इनमें से 26 आईसीयू में हैं और 6 वेंटिलेटर पर हैं। उन्होंने कहा, देश के 12 फीसदी कोरोना के केस दिल्ली में हैं। मरकज की घटना के बाद तेजी से मामले बढ़े।

केजरीवाल ने कहा, दिल्ली में पूरे देश की 2 प्रतिशत जनसंख्या रहती है लेकिन पूरे देश में कोरोना के जितने मामले हैं उसके 12 प्रतिशत दिल्ली में हैं। सबसे ज्यादा मार दिल्ली को झेलनी पड़ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा, दिल्ली में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। लेकिन अभी भी स्थिति काबू में है। घबराने की जरूरत नहीं है।

भारत में कोरोना वायरस के 16 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। हालांकि, अब तक 2500 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, 527 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 13 हजार से ज्यादा लोगों का इलाज चल रहा है। भारत में सबसे ज्यादा संक्रमित महाराष्ट्र और दिल्ली है। महाराष्ट्र में अब तक 3600 जबकि दिल्ली में 1893 मामले सामने आए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।