कोरोना से बचाव के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की अनूठी पहल|
April 19th, 2020 | Post by :- | 233 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :- आंगनवाड़ी कार्यकर्ता घर पर मास्क तैयार कर जरूरतमंदों को नि:शुल्क करा रही उपलब्ध | घर पर उपलब्ध संसाधनों से तैयार किए मास्क और कोरोना से बचाव में निभाई अपनी जिम्मेवारी |

कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच पलवल जिला में महिला एवं बाल विकास विभाग की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने एक अनूठी पहल की है। सिलाई-कढ़ाई का कार्य जानने वाली अनेक आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने लॉकडाउन के दौरान सर्वेक्षण व अन्य कार्यों के बाद बचने वाले समय का सदुपयोग करते हुए कपड़े के फेस मास्क तैयार करने का कार्य किया है। इस पहल में खास बात यह है कि सभी कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्र विशेषकर कंटेनमेंट व बफर जोन में भी जरूरतमंदों तक यह मास्क नि:शुल्क उपलब्ध करा रही है। लॉकडाउन में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के इस प्रयास की जमकर सराहना भी हो रही है।

बता दे कि उपायुक्त नरेश नरवाल ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए बीते दिनों जिला में घर से बाहर निकलने पर फेस मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया था। जिसके चलते आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की यह पहल जरूरतमंदों के लिए लाभकारी साबित हुई है। उपायुक्त नरेश नरवाल ने स्वयं भी इस कार्य के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को बधाई दी और इस पहल को अनुकरणीय बताते हुए प्रशासन की ओर से भी प्रोत्साहन देने की बात कही।

महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला कार्यक्रम अधिकारी मीनाक्षी चौधरी ने जानकारी देते हुए बताया कि लॉकडाउन के बावजूद आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की कंटेनमेंट जोन व आंगनवाड़ी केंद्र के क्षेत्र में सर्वेक्षण आदि कार्यों में ड्यूटी लगी हुई है। ड्यूटी के बावजूद पारिवारिक व अन्य कार्यों के बाद समय मिलने पर जिला की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने घर पर मास्क तैयार करने का प्रयोग किया। इस प्रयास में विशेष बात यह है कि मास्क तैयार करने के लिए किसी अतिरिक्त संसाधन की आवश्यकता को स्वयं के पास उपलब्ध सामग्री से ही पूरा किया गया। उन्होंने बताया कि जिला में अब तक आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा पांच हजार मास्क तैयार कर वितरित किए जा चुके हैं।

पलवल में इस अनूठी पहल से अब तक जिला में हथीन एक व दो, होडल, हसनपुर, पलवल एक व दो ब्लाक की 450 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता जुड़ चुकी है। महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से इस पहल को प्रोत्साहन देने के लिए एक ओर सराहनीय निर्णय होने जा रहा है। मीनाक्षी चौधरी ने बताया कि अब तक आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने घर पर मौजूद कपड़े व अन्य सामग्री का इस्तेमाल किया था लेकिन शीघ्र ही विभाग की ओर से भी कार्यकर्ताओं को मास्क तैयार करने की सामग्री की उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि कपड़े से तैयार इन मास्क को धोकर पुन: उपयोग में लाया जा सकता है। जिसके चलते इनकी लाइफ बाजार में मिलने वाले सामान्य मास्क की तुलना में अधिक है।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।