अच्छी खबर – पलवल में कोरोना संक्रमित 34 मरीजों में 17 स्वस्थ होकर हुए डिस्चार्ज : सिविल सर्जन
April 19th, 2020 | Post by :- | 242 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप सिंह ने दी जानकारी, दो दिन पहले कोरोना संक्रमित दूध विक्रेता के पहले टेस्ट की रिपोर्ट भी नेगेटिव, परिवार के सदस्यों में भी नहीं मिला संक्रमण |
कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच पलवल जिला से अच्छी खबरों का सिलसिला लगातार जारी है। जिला में कोरोना संक्रमण से पीडि़त 34 मरीजों में से 17 पूरी तरह स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं दो दिन पहले कोरोना की चपेट में आए एक दूध विक्रेता की पहली रिपोर्ट भी नेगेटिव मिली है वहीं उसके परिवार के सदस्यों के सैंपल में किसी प्रकार का संक्रमण नहीं मिला। हालांकि दूध विक्रेता व उसके परिवार को अभी क्वारंटीन पर ही रखा गया है।

सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला में अब तक 1134 लोगों को सॢवलांस पर लिया गया जिनमें 113 अपने 14 दिन का पीरियड पूरा भी कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण से पीडि़त लोगों के संपर्क में आए 556 लोगों को आइसोलेशन पर रखा गया। जिला से अब तक जांच के लिए 680 सैंपल भेजे गए जिनमें 576 की रिपोर्ट नेगेटिव मिली है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन कोरोना वायरस से जिलावासियों के बचाव के लिए पूरी तरह गंभीर है। जिसके चलते कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के कांटेक्ट ट्रेसिंग का कार्य त्वरित ढंग से चला।

उन्होंने बताया कि जिला से अब तक भेजे जा चुके सैंपल्स में 64 की रिपोर्ट पेंडिंग है। कोरोना संक्रमण से पीडि़तों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि जिला में स्वास्थ्य जांच के लिए 17 मोबाइल यूनिट लगातार काम कर रही है। जिनमें सात यूनिट हथीन क्षेत्र के लिए तथा 10 जिला के बाकी हिस्सों में काम कर रही है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जल्द ही क्रोनिक डिसीज के लिए ओपीडी भी शुरू होने वाली है। वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े डाक्टर्स भी अपने-अपने क्लिनीक में अपनी क्षमता के अनुसार जांच करेंगे। उन्होंने पुलिस, जिला प्रशासन व हेल्थ के साथ-साथ सामाजिक संस्थाओं व जिलावासियों को कोविड से निपटने में सहयोग की अपील की। बैंक या अस्पताल में सोशल डिस्टेंस का पूरा पालन करें। जिससे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हम अपने देश को विजयी बना सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।