बीबीएन में चोरी छिपे छह सुरक्षा गार्डों के घुसने खिलाफ एफआईआर
April 19th, 2020 | Post by :- | 267 Views

बद्दी ! पुलिस थाना बरोटीवाला के तहत चोर रास्ते से बददी में प्रवेश करने वाले करीब आधा दर्जन सुरक्षा गार्डों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।।
यह सभी पैदल चोर रास्ते से औद्योगिक क्षेत्र बददी में प्रवेश कर रहे थे। पुलिस ने करीब दर्जन भर लोगों को पैदल चोर रास्ते से बददी घुसने पर न सिर्फ उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, बल्कि इन सभी को बरोटीवाला स्थित क्वारंटाइन सेंटर में 14 दिन के लिए भेज दिया है।।
लॉक डाउन केे चलते बददी की सीमाओं को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। बददी में किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। बावजूद इसके यहां के उद्योगों में काम करने वाले कर्मचारी अपनी जान को जोखिम में डालकर चोर रास्तों को अपनाकर बददी में प्रवेश कर रहे हैं।।
शनिवार को पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ सख्ती बरतते हुए करीब दर्जन भर लोगों को खिलाफ एफआईआर दर्ज करके उन्हें 14 दिन के लिए क्वारंटाइन सेंटर में भेज दिया है। जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन द्वारा बार-बार आग्रह करने के बावजूूद लोग मैं न मानू की स्थिति को अपनाते हुए बददी-बरोटीवाला-नालागढ़ (बीबीएन) की सीमाओं पर बने चोर रास्तों से प्रवेश कर रहे हैं। बरोटीवाला पुलिस ने ऐसे चोर रास्ते अपनाकर हिमाचल प्रदेश करने वाले लोगों के खिलाफ एक अभियान चलाया।।
चोर रास्तों से हिमाचल में एंट्र करने वाले लोगों को एक-एक करके वहां खड़ी एचआरटीसी की बस में बैठाया गया और इन्हें 14 दिन के लिए बरोटीवाला क्वारंटाइन सेंटर में भेजा गया। इसके साथ-साथ इन सभी के खिलाफ भादंसं की धारा 188, 269 और 270 के तहत केस भी दर्ज किया गया। एसपी रोहित मालपानी ने बताया कि बीबीएन की सभी सीमाएं पूरी तरह से सील कर दी गई है। बावजूद इसके लोग नहीं मान रहे हैं, ऐसे लोगों को अब 14 दिन के लिए क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है। इसके अलावा इन लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई है।।

दर्जन भर को किया क्वारंटाइन
बरोटीवाला क्वारंटाइन सेंटर भेजे गए लोगों में योगेंद्र कुमार, चंद्र कुमार, राम चंद्र, हरिशंकर, मदन गिरी, मनोज, पुष्पेंद्र, राज कुमार, योगेश, राज कुमार, योगेश, रणवीर, अमृत ठाकुर, चंडी कुमार व अजय शामिल है। यह सभी बददी के विभिन्न उद्योगों में कार्यरत हैं और शनिवार सुबह चोर रास्ता अपनाकर बददी में प्रवेश कर रहे थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।