कांग्रेस नेता प्रमोद शर्मा के खिलाफ चिकित्साकर्मियों के साथ अभद्रता,बदसलूकी व राजकार्य में बाधा में मामला दर्ज,कोरोना रेंज जोन क्षेत्र में जाकर भी खुलेआम घूम रहे नेता,क्या इनको नही आइसोलेट की आवश्यकता!
April 18th, 2020 | Post by :- | 118 Views

झालावाड/लोकहित एक्सप्रैस/अमित अग्रवाल। वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर जंहा समूचे देश में लॉकडाउन किया गया है व आम जनता को घरों में रहने की सख्ती से निर्देश दिए गए हैं व बचाव हेतु सोशल डिस्टेंसिंग पर विशेष ध्यान रखने को निर्देशित किया गया है। वही कोरोना महामारी कर खिलाफ लड़ रहे चिकित्साकर्मियों,स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा 24 घंटे अपनी सेवाएं दी जा रही है बावजूद झालावाड़ जिले के मनोहरथाना स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्साकर्मियों व स्वास्थ्य कर्मियों के साथ कांग्रेसी नेता व उसके साथियों द्वारा अभद्रता,बदसलूकी कर धमकाया गया। जिसके बाद मनोहर थाना स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्साकर्मीयो के रिपोर्ट के आधार पर मनोहर थाना थाने में कांग्रेस नेता प्रमोद शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज हुआ।यह मामला है-थाना अधिकारी अजीत मेघवंशी ने बताया कि सभी चिकित्साकर्मियों की मौजूदगी में चिकित्सा अधिकारी डॉ विष्णु गुप्ता ने रिपोर्ट दर्ज करवाई कि कांग्रेस नेता प्रमोद शर्मा और उनके साथी और पौरुष साहू,सुनील यादव,दौलत यादव अन्य मनोहर थाना स्वास्थ्य केंद्र में आकर राज्य कार्य में बाधा डाली। साथ ही चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को धमकाया अभद्रता की गई। इस पर शर्मा के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई प्रारंभ कर दी है।चिकित्सको का कहना है कि कांग्रेस नेता प्रमोद शर्मा द्वारा मनोहरथाना स्वास्थ्य केंद्र में आकर 24 घंटे सेवाएं दे रहे चिकित्साकर्मियों,स्वास्थ्य कर्मियों के साथ अभद्रता,बदसूलकी व धमकाया गया।जिसकी वीडियो भी बहुत वायरल हो रही है जोकि बहुत गलत है।वही प्रमोद शर्मा द्वारा स्वास्थ्य केंद्र में आकर लॉकडाउन का खुलेआम उल्लंघन किया गया। कांग्रेस  नेता प्रमोद द्वारा यह भी कहा गया कि वह झालावाड़ जिले के रेड जोन बने पिड़ावा,आवर क्षेत्र में भी जाकर आए हैं। अगर वहां पर जा कर आए हैं तो यह आइसोलेट व क्वॉरेंटाइन होने चाहिए थे,बेवजह क्यों घुमा जा रहा है। इनके कारण और भी कई जानो को खतरा हो सकता था।अगर आरोपी शर्मा पर जल्द कार्रवाई नहीं की गई तो चिकित्सकों द्वारा कार्य का बहिष्कार किया जाएगा।

आखिर कौन है ये दादा नेता-झालावाड-बारां लोकसभा कांग्रेस से पूर्व पराजित प्रत्याशी प्रमोद शर्मा है जोकि अपनी पहचान विवाह विवाह बद्दू जुबानी से पहचान जाते हैं वही पूर्णा जैसी महामारी में यह सत्ता के प्रभाव से खुलेआम कुछ साथियों के साथ जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों जबरन घूम कर अस्पतालों का निरीक्षण कर रहे हैं व कोरोनावायरस को वॉरियर्स को डिग्री धारक चिकित्सकों को अपनी सलाह बिना डिग्री के बांट रहे हैं जो कि सिर्फ ऐसे हालात में मात्र एक ड्रामा से बढ़कर कुछ नहीं समझ आता की दादा नेता द्वारा चिकित्सा कर्मियों स्वास्थ्य कर्मियों वह मरीजों के लिए इनकी ओर से बचाव हेतु सैनिटाइजर, मास्क व ग्लोब्ज आदि कुछ वितरित किए जाते लेकिन वह तो रही दूर की बात कांग्रेस नेता द्वारा मनोहर थाना स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों द्वारा जैसा बताया जा रहा है व वीडियो वायरल हो रही है की नेता जी द्वारा अंगुलिया दिखाकर बदसलूकी कर धमकाया जा रहा है। वही सूत्रों के अनुसार कांग्रेस नेता शर्मा सहित नेताओ द्वारा अभी तक स्वास्थ्यकर्मी को पुलिसकर्मियों पर हुए हमले पर भी आज तक कोई निंदा भी नहीं की गई।

अब आमजन के सवाल है कि आखिर किस ओहदे से नेताजी को ज़िले में व रेड जॉन इलाके पिड़ावा व आवर जाने को कहा गया फिर वहा से भी ज़िले की अन्य स्वास्थ्य केंद्रों पर घूमकर अस्पतालों का निरीक्षण किया गया! क्या सत्ताधारी नेताओ को कोरोना महामारी में भी सब अधिकार है प्राप्त ! क्या सत्ताधारी नेताओ को नही होता है कोरोना!
क्या होती है सत्ताधारी नेताजी पर कार्यवाही!

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।