1983 शारीरिक शिक्षकों के मामले पर सरकार सहानुभूतिपूर्वक पुनर्विचार करे: दलबीर मलिक
April 16th, 2020 | Post by :- | 137 Views

कुरुक्षेत्र :     1983 शारीरिक शिक्षकों के मामले पर सरकार सहानुभूतिपूर्वक पुनर्विचार करे यह अपील आज  एलिमेन्टरी स्कूल हैडमास्टर एसोसिएशन हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष दलबीर मलिक ने हरियाणा के मुख्यमंत्री एवं शिक्षामंत्री से की ।

मलिक ने कहा कि हाल ही में माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने 10 वर्ष पूर्व भर्ती हुए 1983 शारीरिक शिक्षकों की भर्ती को रद्द कर पुनः भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के लिए कहा है जोकि 1983 शारीरिक शिक्षकों के लिए अत्यधिक कष्टदायक है ।उन्होंने कहा कि जो शिक्षक मन में अपने परिवार के लिए तरह-तरह सपने संजो कर  पूरी लगन व समर्पण भाव से सरकारी डयूटी का निर्वहन कर रहा हो और एकाएक उसे उसकी सरकारी सेवाएं समाप्त करने का निर्णय सुना दिया जाए तो उसके दिल पर क्या गुजरेगी इसका अन्दाजा सरलता से लगाया जा सकता है ।सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आने के बाद 1983 शारीरिक शिक्षकों के समक्ष अन्धकार छाया हुआ है । मलिक ने कहा कि मिडल स्कूलों तक तो शारीरिक शिक्षकों की संख्या पहले ही कम है और यदि 1983 शारीरिक शिक्षकों को नौकरी से हटा दिया तो स्कूलों में अच्छे खिलाड़ी तैयार करना तथा विधालय में अनुशासन स्थापित करने जैसी समस्या शिक्षा विभाग के समक्ष खडी हो जाएंगी।उन्होंने बताया कि एक शारीरिक शिक्षक की तो कोर्ट का निर्णय आने के बाद ह्रदय गति रुकने से मृत्यु भी हो चुकी है जोकि दुर्भाग्यपूर्ण है  । 1983 शारीरिक शिक्षकों में से अत्याधिक 40वर्ष की आयु  पार कर चुके हैं ।

प्रदेशाध्यक्ष दलबीर मलिक ने एलिमेन्टरी स्कूल हैडमास्टर एसोसिएशन हरियाणा की ओर से सरकार से अपील करते हुए कहा कि 1983 परिवारों के प्रति  सहानुभूति रख कर अपनी संवैधानिक शक्तियों का प्रयोग करते हुए पुनः सर्वोच्च न्यायालय से भर्ती रद्द न करने की गुहार लगाए ।मलिक ने कहा कि  यदि सरकार पूरी नियत और नीति से कोर्ट में  1983 शारीरिक  शिक्षकों की नौकरी बचा ले तो पूरा शिक्षक समाज सरकार का सदैव आभारी  रहेगा ।

प्रेषक:-

दलबीर मलिक

प्रदेशाध्यक्ष

एलिमेन्टरी स्कूल हैडमास्टर एसोसिएशन हरियाणा (रजि0 न0 94)

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।