गुजरात के जिलों से आने वाले 29 लोगों को सुरक्षा के लिए रखा गया है क्वारेंटाइन : यादव
April 2nd, 2020 | Post by :- | 141 Views
कुरुक्षेत्र, ( सुरेश पाल सिंहमार )    ।    लाडवा के उपमंडल अधिकारी नागरिक अनिल यादव ने कहा कि गुजरात के अहमदाबाद, सूरत, जुन्नागढ व हैदराबाद से 29 लोग 19 व 20 मार्च को कुरुक्ष्ेात्र में पहुंच गए थे। इनमें से कोई भी व्यक्ति दिल्ली निज्जामुदीन से नहीं आया है। इन सभी को सुरक्षा के लिए लिहाज से बिंट गांव में बनाएं गए सैल्टर होम में रखा गया है और सभी के स्वास्थ्य की जांच कर ली गई है। अहम पहलु यह है कि कुछ लोग ग्रामीण क्षेत्र में अफवाएं फैला रहे है। इन लोगों की पहचान की जा रही है और इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी।
एसडीएम अनिलय यादव ने आज यहां बातचीत करते हुए कहा कि दिल्ली के निज्जामुदीन स्थित मरकज जमात में शामिल होने वाले लोगों का मामला जैसे ही संज्ञान में आया उसी समय सरकार के आदेशानुसार कुरुक्षेत्र जिले में इस प्रकार के लोगों की तलाश की गई लेकिन छानबीन के बाद यह तथ्य सामने आएं कि दिल्ली निज्जामुदीन से कोई भी व्यक्ति नहीं  आया और इस जिले में कुल 29 लोग आए। उन्होंने कहा कि यह लोग अहमदाबाद, सूरत, हैदराबाद व जून्नागढ में अपने धार्मिक परम्परा के अनुसार 40 दिन का कोर्स करने के उपरांत 19 व 20 मार्च को कुरुक्ष्ेात्र में आएं और इन सभी लोगों को सुरक्षा के लिहाज से गांव बिंट में बनाएं गए सैल्टर होम में रखा गया है। इन सभी लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर ली गई है और इनमें किसी में भी कोरोना वायरस के लक्ष्ण नहीं है।
उन्होंने कहा कि कुछ लोग इस मामलें को लेकर अफवाह फैलाने का काम कर रहे है, जिससे माहौल खराब हो सकता है। इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रशासन ने सख्त कदम उठाएं है और अफवाह फैलाने वाले लोगों की पहचान करने का काम शुरू कर दिया है। जो भी व्यक्ति पकडा गया उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इन लोगों को खाने,पीने,ठहरने और स्वास्थ्य सम्बंधी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है और सैल्टर होम में भी सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम कर दिए गए है। उन्होंने कहा कि लाडवा के साथ-साथ कुरुक्षेत्र जिले की सभी मस्जिदों और इस समाज से जुडे सभी धार्मिक स्थलों को सेनिटाईज कर दिया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।