भरतपुर के बंशी पहाड़पुर के रहने बाले एक दर्जन मजदूर भी आबागमन के साधनों के बन्द हो जाने से जब फस गए हरियाणा के बहादुरगढ़ में तो बे पैदल ही चल पड़े
March 27th, 2020 | Post by :- | 77 Views

संवाददाता शौकत अली

भरतपुर। कोरोनां को लेकर संकट की इस घड़ी में लागू किये गए लाकडाउन ने लोगो का सामने खड़ी कर दी है ऐसी ऐसी मुसीबते कि उनको बया किया जाना भी है मुश्किल। लाकडाउन के कारण बन्द किये गए आवागमन के साधनों ने मुसीवत में डाल दिया है उन मजदूरों को जो अपने घर से दूर दूसरे राज्यो में कर रहे थे मजदूरी। भरतपुर के बंशी पहाड़पुर के रहने बाले एक दर्जन मजदूर भी आबागमन के साधनों के बन्द हो जाने से जब फस गए हरियाणा के बहादुरगढ़ में तो बे पैदल ही चल पड़े अपने गाँव बंशी पहाड़पुर की तरफ। भरतपुर शहर के जामा मस्जिद क्षेत्र से होकर गुजर रहे हालात के मारे इन मजदूरों पर जब पड़ी “भरतपुर अभी अभी” की नजर तो उनसे जानी उनकी पीड़ा। बातचीत के दौरान ही केमिस्ट की दुकान पर दबा खरीद रहे नदिया मोहल्ला निबासी महेंद्र अग्रवाल को जब पता चला उनकी पीड़ा का तो इन्होंने तुरन्त जेब से 500 रुपये निकाल की उनकी मदद ताकि तीन दिन से भूखे प्यासे ये मजदूर ले सके कुछ आहार। धन्य है ऐसे लोग जो दुसरो की मुसीबत में सोचने में बक्त नही करते जाया करते है तुरन्त मदद।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।