वीरेश शांडिल्य का दफ्तर जलाने पर 3 की जमानत व पाली,गोबिंदगढ़ सहित 12 के वारंट जारी
August 31st, 2019 | Post by :- | 118 Views

अम्बाला – वीरेश शांडिल्य का दफ्तर जलाने वाले जरनैल सिंह भिंडरावाला समर्थकों मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है क्योंकि आज सीजेएम अम्बाला ने भिंडरावाला समर्थक हरपाल सिंह पाली,सुखदेव सिंह गोबिंदगढ़,रणबीर सिंह फौजी,रविन्द्रपाल सिंह,रणबीर फौजी सहित आरोपियों जितेन्द्रपाल सिंह,रणजीत सिंह,मंजीत सिंह,अमनदीप सिंह गुजराल,तरविंद्रपाल सिंह,इन्द्रजीत सिंह गोल्डी,अमरपाल सिंह,जसविन्द्र पाल सन्नी,मनप्रीत सिंह,सतवंत सिंह के अदालत में पेश न होने पर वारंट जारी किए l वीरेश शांडिल्य अपने वकील सुमित शर्मा के साथ अदालत में पहुंचे जहाँ शांडिल्य का दफ्तर जलाने वाले तीन आरोपी चरनजीत टक्कर पुत्र करतार सिंह टक्कर,भूपेन्द्र सिंह चड्डा व हरमीत सिंह को 40 हजार के मुचलके पर जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया l इस मौके पर शांडिल्य ने अदालत को 6 जून 2018 की घटना की वीडियो दिखाई जिसमे भिंडरावाला व खालिस्तानी समर्थक शांडिल्य के दफ्तर के मुख्य द्वार के बोर्डों को उतारकर जला रहे है और भिंडरावाला जिंदाबाद के नारे लगा रहे है l यही नहीं शांडिल्य ने अपने वकील सुमित शर्मा की मौजूदगी में अदालत को आरोपी रनबीर सिंह फौजी की भी वीडियो जिसमे वह गुरुद्वारा साहिब में कह रहा है हमने प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी नही बख्शी तो वीरेश शांडिल्य क्या चीज है वही आरोपी पाली की भी वीडियो दिखाई जिसमे वह वीरेश शांडिल्य को जिन्दा फूंकने की धमकी दे रहा है l

ज्ञात रहे एंटी टेरोरिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं श्री हिन्दू तख़्त के राष्ट्रीय प्रचारक वीरेश शांडिल्य का 6 जून 2018 को जरनैल सिंह भिंडरावाला समर्थकों ने भीड़ की शक्ल में पहुंचकर दफ्तर के बाहर लगे बोर्डों को जलाया व भिंडरावाला जिंदाबाद के नारे लगाए जिसपर अम्बाला शहर पुलिस ने जरनैल सिंह भिंडरावाला समर्थकों पर थाना अम्बाला शहर में ऍफ़आईआर 184/18 आईपीसी की धारा 435,427,506 के तहत हरपाल पाली,सुखदेव गोबिंदगढ़,चरनजीत टक्कर,रविन्द्रपाल सिंह,रणबीर फौजी के खिलाफ दर्ज की थी लेकिन जब शांडिल्य को लगा की अम्बाला पुलिस आरोपियों को सरक्षण दे रही है तो उन्होंने डीजीपी से मुलाकात कर उपरोक्त मामले की जाँच अम्बाला से बहार करने की मांग की थी जिसपर डीजीपी ने कैथल पुलिस को मामले की जाँच के आदेश दिए थे l कैथल पुलिस ने लम्बी जांच के बाद न केवल ऍफ़आईआर 184/18 धारा 147 व 149 जोड़ी बल्कि 12 अन्य लोगों को भी दफ्तर जलाने का आरोपी बनाया व जांच अम्बाला पुलिस को सौंपी ओर अम्बाला पुलिस ने 6 जुलाई को सीजेएम विवेक यादव की अदालत में चालान पेश किया था जिसमे आज तीन आरोपी पेश हुए जिन्हें अदालत ने जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया जबकि एसजीपीसी सदस्य,अकाली दल के उपाध्यक्ष सुखदेव गोबिंदगढ़ सहित 12 लोगों के अदालत में पेश न होने पर वारंट जारी किए l

शांडिल्य ने अदालत के बहार पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा की उन्हें न्यायपालिका पर विश्वास है और उन्हें विश्वास है कि उन्हें इंसाफ मिलेगा और जिन आरोपियों के नाम कैथल पुलिस ने जांच में निकाल दिए है उनके आरोपी बनाने के लिए भी सीआरपीसी की धारा 319 के तहत अदालत में आवेदन देंगे l इस मौके पर शांडिल्य के साथ अदालत में कुलवंत सिंह मानकपुर,जसमीत जस्सी,दीपक शांडिल्य,तरसेम सैनी सहित कई फ्रंट सदस्य मौजूद थे l

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।