जिला स्थानांतरण द्वारा स्थायी जिले देने व मौलिक मुख्याध्यापक के रिवर्ट व अधूरी पदोन्नति सूची के विरोध में ज्ञापन सौंपा गया
August 30th, 2019 | Post by :- | 96 Views

अंबाला , मुलाना  ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )   ।

हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ (संबंधित सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा एवं स्कूल टीचर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया) की जिला अंबाला कार्यकारिणी द्वारा आज जिला शिक्षा मौलिक अधिकारी अंबाला के माध्यम से प्रधान सचिव हरियाणा स्कूल शिक्षा विभाग महाबीर सिंह को अव्यवहारिक रेशनलाइजेशन,शिक्षा का सत्यनाश करने वाली जे.बी.टी./टी.जी.टी./सी एण्ड वी ट्रांसफर ड्राइव, 2017 के जे.बी.टी. को भी अन्तर जिला स्थानांतरण द्वारा स्थायी जिले देने व मौलिक मुख्याध्यापक के रिवर्ट व अधूरी पदोन्नति सूची के विरोध में ज्ञापन सौंपा गया।
प्रदर्शन की अध्यक्षता जिला प्रधान बृज मोहन ने की व संचालन जिला सचिव अशोक कुमार सैनी ने किया।

जिला उप-प्रधान माला सिंह ने प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कहा की अव्यवहारिक रेशनलाइजेशन करके मास्टर वर्ग व सी एंड वी के बहुत सारे पदों को सरप्लस कर, मौलिक मुख्याध्यापक, मास्टर व सी एंड वी के पदों को कैप्ट/ब्लॉक कर सरकार ने अपनी नाकामी को छुपाते हुए सभी रिक्त पदो को केप्ट कर दिया।

जिला प्रेस सचिव लाभ सिंह ने कहा कि 2017 के जे.बी.टी. को भी अन्तर जिला स्थानांतरण द्वारा स्थायी जिले अलाट करने, पी.टी.आई., डी.पी.ई. व शारीरिक शिक्षकों की पोस्टों को रेशनलाइजेशन सूची में अलग-अलग नहीं दिखाने,अध्यापक/छात्र अनुपात आर.टी.ई. कानून का उलंघन करते हुए 6-8 में 1:35 की बजाय 1:50 करने की जोरदार शब्दों में निंदा की।
मांग को जायज मानते हुए भी पूरा करने से साफ मुकरने के विरोध में।

जिला प्रधान बृज मोहन ने विद्यालय में 5 वर्ष से कम ठहराव होते हुए भी जे.बी.टी. का प्रोटेक्शन/यस/नो का ऑप्शन न मांगकर योग्य दिखाने (जबकि पी.जी टी. में यस/नो मांगा गया है) का हम विरोध करते हैं और मौलिक मुख्याध्यापक की पदोन्नति सूची में वरिष्ठता सम्बन्धी खामियां होने व टी.जी.टी संस्कृत से एक भी अध्यापक की पदोन्नति न करने को हास्यास्पद बताया।
आपने सभी गेस्ट टीचरो को ट्रांसफर ड्राईव में शामिल करवाने के लिए व अन्य खामियों के विरोध में आज के प्रदर्शन द्वारा अपनी शिकायत दर्ज करवाई।
जन शिक्षा अधिकार मंच के जिला संयोजक कुलदीप चौहान ने कहा कि ड्राईव की शुरूआत में ही 22-7-19 को आपने जिला स्तर के प्रदर्शन करके,19-8-19 व 26-8-19 को निदेशक के मास डेपूटैशन द्वारा व लगातार की गई बैठकों द्वारा हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के प्रतिनिधिमंडल द्वारा शिक्षा व शिक्षकों की समस्याओ से आवगत करवाया गया। परन्तु सरकार के इशारे पर अधिकारी पहले तो सुनते ही नहीं, दबाव में मीटिंग करके मांगों को जायज मानते हुए हल करने के आशवासन भी दे देते हैं, परन्तु मानी गई मांगो के अनुसार असल में कार्यवाही अमल में नहीं लाते व टरकाने का सा रवैया रहता है।
सोफ्टवेयर में मांगी गई मांगो के अनुरूप कोई संशोधन नहीं किया जाता हैं।
जिला सचिव अशोक कुमार सैनी ने बताया की शिक्षकों व बच्चों पर सक्षम का दबाव बनाने वाला विभाग व सरकार स्वयं सभी मामलो में असक्षम है। शिक्षा व शिक्षक हित में सरकार कोई दलील, अपील सुनने को तैयार नहीं हैं। दबाव के तहत ही सुनवाई होगी। जितने लोग भाग लेंगे उतना ही दबाव होगा।
संघ के स्वर्ण जयंती के मौक़े पर संगठन अपनी राज्य कार्यकारिणी की बैठक कर राज्यव्यापी आन्दोलन करेगी, जिसकी सारी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी।
8 सितम्बर को करनाल में होने वाली सर्वकर्मचारी संघ की आक्रोश रैली में भी इन मुद्दों पर ज़ोरदार ढंग से आवाज उठाई जाएगी।
प्रदर्शन में मुकेश घारू, नीरज कुमार, ओम प्रकाश, सज्जन कुमार, जसवंत सिंह, सुरेश कुमार, जसमत सैनी और तलविंद्र काजल सहित अनेकों अध्यापकों ने हिस्सा लिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।