पीलीभीत : राजनीति चमकोर नेता की सपा विधानसभा में दावेदारी की सेंध तो भाजपा सरकार में लूट रहे मलाई
February 29th, 2020 | Post by :- | 133 Views

पीलीभीत, लोकहित एक्सप्रैस, ( विक्रान्त शर्मा )     ।                    पीलीभीत में इन दिनों सपा सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री हाजी रियाज अहमद के करीबी रहे संजीव मिश्रा उर्फ संजू भईया इन दिनों शोशल मीडिया पर खासा चर्चा में हैं। यूं तो संजीव मिश्रा पीलीभीत की बरखेड़ा विधानसभा से प्रबल दावेदारी पेश कर विधानसभा चुनाव लड़ने की चर्चा शोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है । वहीं राजनीति चमकाने नेता जी सरकार बदलते ही भाजपा में शामिल होकर नगर पालिका के खिलाफ़ मोर्चा खोल कर देवहा नदी पर पड़ने वाले कूड़े के ढेर का विरोध प्रदर्शन भी किया लेकिन राजनिति चमकाने वाले नेता अचानक गायब हो गए । बीते कुछ दिनों से विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियों में जुटे नामी समाजसेवी संजीव मिश्रा एक बार फिर राजनीति में सक्रिय होते दिख रहे हैं ।

*सपा सरकार में प्रदेश स्तर पर किया सफेद नमक का काला कारोबार*

शोशल मीडिया पर विधानसभा चुनाव में प्रबल दावेदारी की ताल ठोंकने वाले संजीव मिश्रा ने सपा सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री की सह पर  प्रदेश के कई जिलो में जिला प्रशासन की सांठ गांठ के चलते राशन की दुकानों कोटे पर नमक की सप्लाई का कारोबार करते रहे हैं ।वहीं भाजपा सरकार आते ही सपा नेता के करीबी रहे संजीव मिश्रा ने भाजपा में शामिल होकर भाजपा नेताओ के संरक्षण में साझेदारी कर कई जिलों में अधिकारियों व जिला पूर्ति विभाग की मिली भगत के चलते सफेद नमक की कालाबाजारी कर राशन कोटे की दुकानों पर सप्लाई देने का काम कर रहे । वही जिला मामले में जिला पूर्ति अधिकारी ने राशन की दुकानों पर बिकने वाले घटिया नमक की जांच के बाद कार्रवाई की बात कहते हुए जानकारी दी कि यदि जिले में नमक की सप्लाई isi मार्क की नहीं है और मानक के अनुरूप नहीं मिलता है तो कोटे दार सहित नमक सप्लायर पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी । अब देखना यह है कि सफेद नमक के काले कारोबार का धंधा किस कदर अधिकारियों का शिकंजा कस पायेगा या दल बदलू नेता का सत्ता संरक्षण के चलते कार्रवाई के नाम पर जेब भरपाई कर उन्हें क्लीनचिट दी जाएगी

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।