राया में लगने वाले जाम से मिलेगी निजात
February 27th, 2020 | Post by :- | 293 Views

मथुरा (राजकुमार गुप्ता  ) ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जागरूकता समिति उत्तर प्रदेश के मुख्य संरक्षक वल्देव विधानसभा क्षेत्र के विधायक पूरन प्रकाश के द्वारा लगातार 8 वर्षों से राया कस्बे में लगने वाले जाम से निजात दिलाने के लिए प्रयास किए गए l बावजूद इसके कई सरकारें बदल गई लेकिन इस कस्बे में वाहनों के साथ एंबुलेंस जाम के कारण कई लोगों की सड़क हादसा वा गंभीर बीमारियों में समय से इलाज न मिलने के कारण कई लोगों की इस जाम के कारण जाने जा चुकी हैं l इस जाम के कारण जिन लोगों को जयपुर से अलीगढ़ बुलंदशहर व हाथरस कासगंज होते हुए बरेली के लिए अपने वाहनों से निकलते हैं वह लोग छे छे सात सात घंटे लोग जाम में फसे रहते हैं लेकिन कई साल बीत जाने के बाद जब कोई नतीजा नहीं निकला l विधायक पूरन प्रकाश ने यह मुद्दा कल प्रश्नकाल के दौरान एक बार फिर से विधानसभा में उठाया इसके जवाब में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री व लोक निर्माण विभाग मंत्री केशव प्रसाद मौर्य इस मुद्दे पर विधानसभा में जवाब दिया उन्होंने बताया अब यह राज्य मार्ग अब राष्ट्रीय मार्ग 33 नंबर में बदल चुका है और लगने वाले जाम से निजात लोगों को शीघ्र मिलेगी l राष्ट्रीय राज्य मार्ग डीपीआर का कार्य भारतीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा मैसर्स शौकीन जी आई एस डॉर्विन डिज़ाइन के द्वारा कराया जाएगा साथ ही भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण मुख्यालय के द्वारा भूमि अर्जन की प्रक्रिया को प्रारंभ करने की स्वीकृति दी जा चुकी है इसके पश्चात डीपीआर के कार्य को प्रारंभ करने के निर्देश राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के क्षेत्रीय कार्यालय पश्चिम उत्तर प्रदेश को दिए जा चुके हैं l ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जन जागरूकता समिति के प्रदेश अध्यक्ष विनोद दीक्षित ने कहा राया कस्बे पहले सोनिया मिठाई के लिए जाना जाता था अब यह कस्बा पूरे देश में जाम के लिए प्रसिद्ध है लोगों की इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए समिति पिछले कई वर्षों से समय-समय पर इस मुद्दे को हर स्तर पर उठाती रही है l इस प्रयास में सफलता के लिए लोगों को जाम से निजात दिलाने के लिए अपने संरक्षक बलदेव विधानसभा विधायक पूरन प्रकाश मथुरा पहुंचने पर भव्य स्वागत करेगी l

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।