( न्यूज़ में विडियो भी देखे ) मैडिकल कराने लाए सब इंस्पेक्टर से कि एसपीओ ने धक्का-मुक्की
February 25th, 2020 | Post by :- | 152 Views

* पुलिस लगी मामले को दबाने में लगी हुई हैं।

अम्बाला, ( गौरव शर्मा )   ।    पुलिस का मंत्र सेवा सुरक्षा सहयोग लेकिन आजकल यह मंत्र उन्हीं पर भारी पड़ गया है मामला। देर रात अंबाला छावनी के नागरिक अस्पताल का है जहां। शक के आधार पर एक एसपीओ को पुलिस द्वारा जिप्सी में उसके मेडिकल कराने के लिए लाया गया था। शायद उसने दारू पी हुई थी। यह हम नहीं कह रहे हैं। यह तो रिपोर्ट आने के बाद पता लग ही जाएगा। लेकिन जब नागरिक अस्पताल में सब इंस्पेक्टर हरपाल सिंह एसपीओ को। अपने दो पुलिसकर्मियों के साथ नागरिकता लेकर पहुंचे उसके बाद एसपीओ। संदीप कुमार ने ब्लड सैंपल देने एवं मेडिकल कराने से मना करते हुए। अस्पताल के बाहर जाने की कोशिश की इसके बाद वह नागरिक अस्पताल में बने थाने में भी चला गया। जहां हरपाल जब एसपीओ संदीप कुमार को लेने पहुंचे तो दोनों के बीच में काफी गहमागहमी हुई और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आपस में धक्का-मुक्की भी हुई काफी मशक्कत के बाद जबरदस्ती एसपीओ संदीप कुमार का ब्लड सैंपल लिया गया।

 

डाक्टर गगनदीप सिंह से हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि देर रात एसपीओ को लेकर आ गया था जहां उनका ब्लड सैंपल लेकर के जांच के लिए करनाल, मधुबन भेज दिया गया है। ब्लड सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद ही पता लगेगा कि एसपीओ संदीप दारु पी हुई थी या नहीं।

इस घटना की जानकारी के बारे में जब नागरिक अस्पताल की कार्यकारी एसएमओ। पूजा पेंटल से। ली गई तो उन्होंने कहा कि कोई भी एम एल आर संदीप कुमार की नहीं काटी गई है। सिर्फ उसके ब्लड सैंपल लेकर करनाल मधुबन जांच के लिए भेजे गए हैं।

 

फिलहाल इस बारे में जब अंबाला के पुलिस कप्तान अभिषेक जोरवाल से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। वा इसकी जानकारी डीएसपी रामकुमार से लेने की बात कही।

इस बारे जब डीएसपी रामकुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने भी। कहा कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है।

उसके बाद इसकी जानकारी थाना सदर एस एच ओ विजय कुमार से ली गई तो उन्होंने कहा कि यह उनका रूटीन वर्क है। शक के आधार पर वह किसी पुलिस कर्मी को उसकी संदिग्ध परिस्थिति को देखते हुए उसकी जांच की जा सकती है। विजय कुमार ने बताया कि। सब इंस्पेक्टर। हरपाल सिंह और एसपीओ। संदीप कुमार के बीच में कोई भी मारपीट या धक्का-मुक्की नहीं हुई है। उन्होंने लड़ाई झगड़े की बात से इनकार किया है।

 

लेकिन जब खोजबीन की और वहां लगे सीसीटीवी कैमरा की पड़ताल की गई जिसमें दिख रहा है कि एसपीओ संदीप कुमार वहां से भागने की कोशिश करता है और कुछ प्रत्यक्षदर्शी उस थाने की ओर भी देख रहे हैं। जहां यह सब ड्रामा हो रहा है फिलहाल पुलिस अब अपने दामन के ऊपर कोई दाग नहीं लगाना चाहती। इसीलिए इस मामले को दबाने मै लगी हुई है। लेकिन कहते हैं दो आंखें बंद होब्जाती है तो तीसरी आंख देखती है और ऐसा ही कुछ देखा नागरिक अस्पताल में लगे हुए सीसीटीवी कैमरा ने।

इस बारे जब। सब इंस्पेक्टर हरपाल सिंह से बातचीत की गई तो उन्होंने भी। कोई भी लड़ाई झगड़ा एवं धक्का-मुक्की की बात को इनकार करते हुए यह तक कह दिया कि एसपीओ संदीप कुमार को लाया ही नहीं गया और ना ही कोई ब्लड सैंपल लिए गए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।