माही पेयजल योजना के कार्य को बांसवाडा में रोके जाने को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओ ने सोमवार को नगर में एक रेली निकालकर जिला कलेक्टर के नाम उपखण्ड अधिकारी विजयेश पंड्या को एक ज्ञापन सौंपा।
February 24th, 2020 | Post by :- | 81 Views

कुशलगढ़ बांसवाड़ा अरुण जोशी
विधानसभा क्षेत्र कुषलगढ की माही पेयजल योजना के कार्य को बांसवाडा में रोके जाने को लेकर पूर्व संसदीय सचिव भीमाभाई डामोर के नेतृत्व में हजारो की संख्या में उपस्थित भाजपा कार्यकर्ताओ ने सोमवार को नगर में एक रेली निकालकर जिला कलेक्टर के नाम उपखण्ड अधिकारी विजयेश पंड्या को एक ज्ञापन सौंपा। इससे पूर्व रेली को संबोधित करते हुए पूर्व संसदीय सचिव भीमाभाई डामोर ने कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा षासन में इस कार्य को प्रारंभ करवाया था परंतु वर्तमान कांग्रेस सरकार इस कार्य में रोडे लगाकर जनता के हितो पर कुठाराघाात कर रही है। उन्होने कहा कि पूर्व भााजपा सरकार ने इस योजना को प्रारंभ किया था ताकि क्षेत्र के लोगो को पीने का पानी मुहैया हो सके इस सरकार ने लोगो से पीने का पानी छिनने का एक गंभीर कृत्य किया है जिसका जवाब जनता देगी। रेली को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेष कार्यसमिति सदस्य कानहींग रावत ने कहा कि भीमाभाई डामोर के अथक प्रयास से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा कुषलगढ क्षेत्र की जनता के लिए माही बांध से पाईपलाईन के जरिये 399 गावों और 395 ढाणीयों में पीने का पानी पहुंचाने के उद्देष्य से इस योजना को प्रारंभ किया गया था जिसका कार्य पूर्व सरकार के कार्यकाल में ही प्रारंभ हो गया था उन्होने कहा कि इस योजना से पूरे कुषलगढ विधानसभा के वासियों को पीने का पानी की समस्या दूर होने वाली थी किंतु कांग्रेस सरकार के एक माननीय मंत्री ने रोडे डालकर कार्य को रोक दिया गया है। इस काम को रोके जाने को लेकर क्षेत्र की जनता में काफी आक्रोष व्याप्त है। उन्होने कार्य को अतिषीघ्र पूर्व निर्धारित योजना के अन्तर्गत प्रारंभ करवाने की मांग की है। उन्होने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर कार्य पूर्व निर्धारित योजना के तहत प्रारंभ नही किया जाता है तो उग्र आन्दोलन किया जायेगा। इस अवसर पर ज्ञापन सोंपने वालो में मंडल अध्यक्ष नितेष बैरागी,प्रतापसिंह,दिलीप टेलर,भूपेन्द्र टेलर,कमलेष टेलर,रितेष गादिया सहित हजारो केी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।