मिशन इंद्रधनुष 2.0 के चौथे राउंड एवं गलघोंटू बीमारी से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग की कवायद शुरू
February 22nd, 2020 | Post by :- | 89 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । नूह जिले के सिविल सर्जन , डॉक्टर वीरेंद्र यादव द्वारा नूह ब्लॉक की सभी एएनएम एवं गलघोंटू से प्रभावित 24 गांवों की आशा वर्कर एवं आंगनवाडी वर्कर सहित सभी आंगनवाड़ी सुपरवाइजर ,आरबीएसके टीम के डॉक्टरों एवं कम्युनिटी हेल्थ ऑफीसरस आदि की बैठक ली गई।
सबसे प्रथम बैठक के लिए आमंत्रित कर्मचारीयों/ अधिकारीयों की हाज़िरी ली गयी एवं अनुपस्थित व्यक्तियों के लिए कठोर निर्देश दिए गए। आगामी वर्ष में जिले को गलघोंटू रहित बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें 0 से 16 वर्ष तक के लाभार्थियों को गलघोंटू से बचाव के लिए 5 टीकों का अनुक्रम पूरा किया जाएगा। यह मिशन के तौर पर 1 मार्च से आरम्भ होगा। मार्च माह में सभी को पहला टीका, अप्रैल में दूसरा एवं सितम्बर के उत्तरार्ध में तीसरा टीका लगाया जाएगा।
 डॉ विरेन्द्र यादव ने जिले में टीकाकरण की कमी के कारणों पर तीखा प्रहार करते हुए आशा-आँगनवाड़ी की अनपढ़ता को कारण के रूप में सिरे से नकारा। उन्होंने जमीनी स्तर पर सामाजिक मेल-मिलाप एवं पारस्परिक संपर्क साधने में अकुशलता को ही जिले के स्वास्थ्य आँकडों में कमी का कारण माना। उन्होंने स्पष्ट किया कि जो मोबीलाइज़र लाभार्थियों का जुटाव/ लामबंदी टीकाकरण सत्र/ आँगनवाड़ी केन्द्र तक नहीं कर सकता, वो प्रोत्साहन राशि का भी अधिकारी नहीं है। ऐसे कर्मचारीयों को केवल न्यूनतम वेतन ही दिया जाना चाहिए।  नियमित सब-स्वास्थ्य केन्द्रों के खुलने पर भी ज़ोर दिया गया।
उन्होंने आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं तथा सुपरवाइजरों द्वारा सघन मिशन इन्द्रधनुष 2.0 के तीन चरणों में किये गए सहयोग के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग का आभार व्यक्त किया।
 पूर्व में लाभार्थियों की ड्यू लिस्ट में पाइ जाने वाली त्रुटीयों को पुनः न दुहराए जाने हेतु सभी की ट्रेनींग डॉ संजीव तँवर , SMO, WHO द्वारा की गई।
आगामी बैठकें 27,28 एवं 29 फरवरी को ब्लॉक पुन्हाना, तावङू एवं फिरोज़पुर झिरका के लिए तय हैं। जिले में सभी उम्मीद करने लगे हैं कि स्वास्थ्य सम्बन्धी आँकड़ों में अब तेजी से सुधार होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।