पांडेश्वर नाथ धाम के कजरहवा मेला में भक्तों का उमड़ा जनसैलाब
February 21st, 2020 | Post by :- | 106 Views

प्रयागराज। महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर पांडेश्वर नाथ धाम के मंदिरों में दो दिवसीय मेले का आयोजन शुरू हो गया है। इस अवसर लाखो की संख्या में श्रद्धालु यहाँ पर भगवान शिव को दूध और जल का अभिषेक कर सुख समृद्ध की कामना करते है। इस दौरान बहुत से श्रद्धालु पडिला महादेव के मंदिर में कावर लेकर आते है । पुराणों के अनुसार इस मंदिर की स्थापना पांडवो ने की थी । दो दिन तक चलने वाले इस मेले प्रदेश के विभिन्न जिलो से लाखो की संख्या में श्रद्धालु यहाँ दर्शन के लिये आते है। दर्शनार्थियो की सुरक्षा के लिये यहाँ पर थरवई पुलिस द्वारा कड़े इंतजाम किये गये थे। मंदिर के चारो तरफ सीसी टीवी कैमरे की मदद से निगहबानी की जा रही थी । मेले के दौरान यहाँ पर कजरहवा मेले का आयोजन होता है। इस आयोजन में ग्रामीण की महिलाये सज धज कर आती है और मेले से घरेलू उपयोग की वस्तुओ की खरीददारी के आँखों में लगाने वाले काजल की भी खरीददारी करती है। मान्यता है यह काजल की भगवान शिव विवाह के समय मंडप पारा गया काजल है जिसको लगाने से दोषों रक्षा होती है। इसके अलावा कुवारी कन्याये व्रत रखकर शिवलिंग का दर्शन करती है, मान्यता है की ऐसा करने पर उन्हें अच्छे वर की प्राप्ति होती है । मेले के दौरान दर्शनार्थी यहाँ पर बनने वाले मशहूर पेड़े की खरीददारी करते है। यहाँ पर बनने वाले पेड़े का वजन एक पाव से लेकर सवा किलो तक होता है जो किसी अन्य मेले में नहीं मिलता । पांडेश्वर नाथ मेले में मिलने वाला यहाँ पेड़ा कजरहवा पेड़ा के नाम से भी जाना जाता है । सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी देते हुए थरवई यशो कुलदीप तिवारी ने बताया की दर्शनार्थियो की सुरक्षा के लिये जगह-जगह पर बैरीकेटिंग की गयी है । जिससे मंदिर में भीड़ न होने पाए इसके अलावा सीसी टीवी कैमरे लगाये गये है जिससे हर पल की जानकारी ली जा सके ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।