गेस्ट हाउस मैं रूम लगाने वाले 4 युवकों ने महिला और उसके भाई से मारपीट की पुलिस ने हिरासत में लिया
February 20th, 2020 | Post by :- | 136 Views

वृंदावन,मथुरा(राजकुमार गुप्ता) नगर में फल-फूल रहे अवैध गेस्ट हाउस जहां पर टूरिस्ट को  ठगने का काम चलता है 1 दिन का चार्ज हजार रुपए सेढाई हजार रु तक है l कुछ गेस्ट हाउस श्रीधाम वृंदावन को बदनाम कर रहे हैं धार्मिक नगरी वृन्दावन में इन दिनों रात्रि के दौरान प्रेम मंदिर के निकट रूम लगाने वाले युवकों की गुंडई सिर चढ़कर बोल रही है।श्रद्धालु हो या फिर स्थानीय महिला- पुरुष सभी के साथ हाथापाई करने पर उतारू हो जाते हैं ये युवक। इन बैखौफ युवकों को पुलिस का कोई भय नहीं है।चौपहिया गाड़ी और ऑटो में श्रद्धालुओं को देखते ही ऐसे झपट्टा मारते हैं, मानों चारों ओर से आये बदमाशों ने हमला कर दिया हो।ऐसा ही एक माजरा उस समय देखने को मिला, जब ऑटो में सवार स्थानीय महिला व पुरुष के साथ चार युवकों ने मारपीट कर लहूलुहान कर दिया। दरअसल, करीब 11.30 बजे का समय रहा होगा।एक महिला अपने भाई मोहन के ऑटो में सवार होकर बच्चों को लेने सौ फुटा पर आ रही थी।तभी अचानक श्यामा स्वीट रेस्टोरेंट व गेस्ट हाऊस पर बैठे चारों युवकों ने ऑटो को रोकने का प्रयास किया। युवक ऑटो में बैठी महिला से रूम लेने की बात कहते रहे।मना करने पर युवकों ने ऑटो ड्राइव कर रहे मोहन के साथ गालीगलौज कर मारपीट करनी शुरू कर दी। तभी पड़ौस का राजा नामक युवक आया और बीचबचाव करने लगा  युवकों ने उसकी एक न सुनी। गेस्ट हाऊस से लाठी डंडे निकाल लाये और राजा को लहूलुहान कर दिया। साथ ही मोहन को भी बुरी तरह पीटा। और तो और एक युवक ने टेम्पू में बैठी महिला का गलेबान पकड़कर नीचे खींच लिया।जिसके चलते उसके कपड़े भी फट गये।पीडितों ने तुरत रमणरेती चौकी पर पुलिस को घटना से अवगत करा दिया।मौके पर पहुंची पुलिस ने चारों आरोपी युवकों को हिरासत में ले लिया।पीड़ित कमलेश नामक महिला ने थाने पहुंचकर घटना की तहरीर दे दी है।पुलिस ने लहूलुहान राजा और मोहन को सौ शैय्या अस्पताल में डॉक्टरी कराने के वास्ते भेज दिया। वृंदावन में अधिकांश गेस्ट हाउस व रेस्टोरेंट अवैध है आश्रम के नाम पर गेस्ट हाउस और रेस्टोरेंट बनाकर खड़े कर दिए प्रशासन भी कई बार कार्रवाई की बात कह चुका है मगर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई अगर प्रशासन बेड तरीके सेे कार्रवाई करता है तो बहुत सेे बंद हो जाएंगे l

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।