विधायक ने गांवों का दौरा कर मुख्यमंत्री की रैली का निमंत्रण दिया |
February 20th, 2020 | Post by :- | 74 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :- स्थानीय विधायक व पूर्व मंत्री जगदीश नायर ने दर्जनों गांवों का धन्यबाद दौरा कर लोगों का आभार व्यक्त किया। विधायक बनने के बाद नायर का यह गांवों में पहला दौरा था। नायर ने यहां ग्रामीणों को 23 फरवरी को हथीन में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की होने वाली रैली के लिए आमंत्रित किया। विधायक ने यहां होडल मंडल अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर गांव भुलवाना निवासी प्रेमराज तंवर को मिठाइ खिलाकर बधाई भी दी। गांवों के दौरे के दौरान विधायक जगदीश नायर ने करोडों रुपये से गांवों में होने वाले विकास कार्यों की घोषणा भी की। विधायक का गांवों में पहुंचने पर पंच-सरपंच व ग्रामीणों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।

पूर्व मंत्री व विधायक जगदीश नायर ने गुरूवार को दर्जनों गांवों का दौरा कर ग्रामीणों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने जो उन्हें विधानसभा में जीत दिलाई है वह उनके हमेशा ऋण रहेंगे। उन्होंने कहा कि पलवल जिले की विधानसभा हथीन में 23 फरवरी को होने वाली मुख्यमंत्री खट्टर की रैली एतिहासिक रैली होगी। उन्होंने बताया कि इस रैली में होडल विधानसभा से भी हजारों की संख्या में ग्रामीण हिस्सा लेंगे। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि इस रैली के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पलवल जिले को विकास के लिए करोडों रुपये की सौगात देंगे। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने हमेशा लोगों की सुख-दुख में हमेशा साथ दिया है।

सभी गांवों व शहरों के समान विकाश व कार्य कराए जा रहे हैं। उन्होंने ग्रामीणों को रैली का निमंत्रण देते हुए कहा कि वह ज्यादा से ज्यादा संख्या में रैली में पहुंचकर इस रैली का सफल बनाने का कार्य करें। विधायक ने गांव भुलवाना, करमन, डाढका, बोराका, सोन्हद, लोहिना, सेवली सराय, गुदराना, नगला अहसानपुर, औरंगाबाद, तुमसरा, पिगौड, भूपगढ के अलावा अन्य गांवों का दौरा कर रैली का न्योंता दिया। इस मौके पर विधायक जगदीश नायर के साथ जिला पार्षद चंदन भुलवाना, मंडल अध्यक्ष प्रेमराज तंवर, रामदत्त शर्मा, नरबीर भुलवाना, पूर्व सरपंच गोकल, सोहनपाल भुलवाना, पूर्व सरपंच तारिफ के अलावा सैकडों ग्रामीण मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।