धूमधाम से निकली शोभायात्रा , रास्ते में लोगों ने किया भव्य स्वागत
February 20th, 2020 | Post by :- | 119 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) श्री महाशिवरात्रि पर्व के उपलक्ष में एक विशाल शोभायात्रा 19 फरवरी 2020 दिन बुधवार को दोपहर 1 बजे श्री राधा कृष्ण मंदिर सेक्टर 18 सी चंडीगढ़ से प्रारंभ की गई। इस शोभायात्रा में सभी मंदिरों के सहयोग से 35 से 40 ट्रकों में भगवान शिव भोले की सुंदर सुंदर झांकियां सजाकर उनकी अद्भुत महिमा को वर्णित किया गया। यह शोभायात्रा बैंड बाजे के साथ भगवान शिव का भजनों द्वारा गुणगान करते हुए पूरे हर्षोल्लास से निकाली गई। यात्रा से पूर्व श्री राधा कृष्ण मंदिर सेक्टर 18 में श्रद्धालुओं और भक्तों के लिए अटूट भंडारे का आयोजन किया गया! इसकी जानकारी श्री कमलेश चंद्र सूरी महासचिव ने दी।

सभा के कमांडर अनुज कुमार सहगल ने बताया कि शोभायात्रा सेक्टर 18 श्री राधा कृष्ण मंदिर से प्रारंभ होकर 18 मार्केट, गुरुद्वारा साहिब सेक्टर 19, सीताराम मंदिर, श्री आर्य समाज मंदिर, रेहड़ी मार्केट 19 से 19/27 के बीच की सड़क से होते हुए श्री गुरुद्वारा सेक्टर 7, श्री सनातन धर्म त्रिवेणी मंदिर सेक्टर 7 मार्केट, प्राचीन शिव मंदिर सेक्टर 8, मार्केट सेक्टर 8 से मार्केट सेक्टर 9 सेक्टर 10 सनातन धर्म मंदिर से सेक्टर 11 मार्केट से होते हुए सेक्टर 11/12/14/15 की बीच की सड़क से होते हुए मार्केट सेक्टर 15 से होते हुए श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर 16 में समाप्त हुई समापन हुई। इस शोभायात्रा में शिव तांडव अघोरी डांस और भगवान शिव के जीवन से जुड़े कई दृश्यों को दर्शाया गया जोकि लोगों के आकर्षण का विषय रहे।
शहर के निवासियों व श्रद्धालुओं की ओर से शोभायात्रा का जगह-जगह पर जलपान, फल, पकौड़े, दूध आदि के स्टॉल लगाकर भव्य स्वागत किया गया।
इस शोभायात्रा में हिंदू महासभा के सभी सदस्य विशेषता अध्यक्ष श्री बीपी अरोड़ा, श्री विजय कपूरिया, श्री वाई के सरना, केसी सूरी, रामधन अग्रवाल, कर्नल धरमवीर, एलसी बजाज, पदमचंद राय, लक्ष्मी नारायण सिंगल, सुभाष गोयल, अनुज कुमार सहगल, सुरेश राणा, पंकज गुप्ता, शिप्रा बंसल, डोगरा, एवं श्री अजय कौशिक अन्य पदाधिकारियों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।