5 पंचायतों में भरे जाएंगे आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं साहयिकाओं के पद
February 19th, 2020 | Post by :- | 203 Views

आनी- (दिलाराम भारद्वाज ब्यूरो चीफ )कुल्लू जिला के उपमंडल आनी की 5 पंचायतों के छह आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं के पद भरे जाएगें।

कराणा, तलूना पंचायत के कराणा, निगान एवं तलूना आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और कराणा, खणी और लगौटी पंचायत के बठलौण, खुन्न और कुआ आंगनबाड़ी केंद्रों में सहायिकाओं के पद भरे जाने हैं। इसको लेकर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की ओर से 9 मार्च तक आवेदन मांगे गए हैं। इस दिन तक सादे कागज पर योग्य महिला उम्मीद्वार सीडीपीओ कार्यालय में आवेदन पत्र जमा कर सकती हैं। उम्मीदवार दस्तावेजों के साथ निर्धारित तिथि तक आवेदन पत्र जमा कर सकती है, सभी अनिवार्य दस्तावेज की मूल प्रतियां साक्षात्कार के दिन चयन समीति के समक्ष प्रस्तुत करनी होगी। 17 मार्च को साक्षात्कार होगा, इसके लिए अलग से कोई पत्र नहीं भेजा जाएगा। आवेदन पत्र के साथ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता, परिवार की वार्षिक आय का प्रमाण पत्र, आंगनबाड़ी क्षेत्र की निवासी का प्रमाण पत्र, अनुभव प्रमाण पत्र, विकलांगता प्रमाण पत्र, परिवार में दो ही लड़कियों के होनी का प्रमाण पत्र, परिवार रजिस्टर की नकल संलग्न किए जा सकते हैं।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के पद के लिए केवल महिला पार्थी ही पात्र है। इसके साथ ही 21 से 45 वर्ष उम्र की महिलाएं आवेदन कर सकती हैं। पार्थी का नाम 1 जनवरी 2020 को उस आंगनबाड़ी केंद्र के परिवारों की फ्रिजिंग सूची में दर्ज होना चाहिए। इसके अलावा 12वीं कक्षा उतीर्ण होना अनिवार्य शर्त है। तहसीलदार द्वारा जारी किया हुआ 35 हजार रुपए से कम आय प्रमाणपत्र भी प्रस्तुत करना होगा। इसी तरह आंगनबाड़ी सहायिका हेतू उम्मीद्वार के लिए भी यही शर्तें रहेंगी लेकिन शैक्षणिक योग्यता 8वीं कक्षा रहेगी। चयन प्रक्रिया में कुल 25 अंक होंगे।

इसमें शैक्षणिक योग्यता, अनुभव, विकलांगता, परिवार में दो लड़कियां होने और व्यक्तिगत साक्षात्कार को शामिल किया जाएगा। सीडीपीओ आनी विपाशा भाटिया का कहना है कि 9 मार्च तक योग्य महिला उम्मीद्वार आवेदन कर सकती हैं, 17 मार्च को साक्षात्कार एसडीएम कार्यालय में होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।