बिजली कर्मियों के बंधक बनाए मामले में आया नया मोड़ ,पीड़ित औरतों में बिलों की।अदायगी न करने की बताया वजह नशा ।
February 19th, 2020 | Post by :- | 120 Views

गांव धारड़ में पावरकॉम द्वारा बिजली के बिलों की अदायगी ना करने के चलते काटे गए कुनैक्शन मामले ने लिया नया मोड़ ,
औरतों ने सुनाए दुखड़े बेटे और पति करते है नशा ,
जो कमाई होती है है खत्म हो जाता नशा खरीदने में
बिजली के बिलों की अदायगी करनी पड़ेगी ,हम केवल किश्तें कर सकतें है माफ नही है :एक्सईन ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
बता दे कि कल गांव धारड़ में जो पावरकॉम के कर्मचारी उन लोगों के बिजली के कुनैक्शन काटने आए थे जिन्होंने बिजली के बिलों की अदायगी नही की थी ।लेकिन गांव वासियों ने उन्हें 6 घण्टे बंधक बनाए रखा था ।जो गत रात करीब 9 बजे इस शर्त पर उन्हें छोड़ा गया था कि वह सुबह अपने अधिकारियों से बातचीत कराएंगे ।आज इसी मामले में पीड़ित लोग किसान मज़दूर सँघर्ष कमेटी पंजाब की अध्यक्षता में एक्सईन जंडियाला गुरु मनिंदरपाल सिंह से मिले और उन्हें अपनी समस्या से अवगत कराया ।इनमें कुछ औरतों ने अपने दुखड़े सुनाते हुए कहा कि वह सभी गरीब परिवार से सबंधित हैं । उनमें किसी का बिल 200 यूनिट स्कीम के तहत माफ नही है ।इन लोगों में से किसी 30 हज़ार और किसी 50 हज़ार बिल पेंडिंग है ।इस मामले में इनमें कुछ लोगों ने बिजली कर्मियों पर रिश्वत खाने के बी आरोप लगाए हैं ।
नशे में पति और बेटे खर्च कर देते हैं सभी पैसे ।
इस मामले में एक रौचक बात सामने आई है कि इन महिलाओं द्वारा यह भी आरोप लगाए गए है कि उनके गांव धारड में अभी भी नशा शरेआम बिक रहा है ।यह नशा ही उनकी बर्बादी का कारण बन रहा है ।किसी का पति तो किसी मां का बेटा नशे का शिकार है ।जो नशा खरीदने के लिए परिवार को आर्थिक तौर पर खोखला बना रहा है ।
पेंडिंग बिलों की अदायगी हर हाल में करनी होगी :एक्सईन ।
एक्सईन जंडियाला गुरु इंजीनियर मनिंदरपाल सिंह ने कहा कि जिनके बिजली के बिल ना अदायगी करने के चलते काट दिए गए हैं उनके हम अदायगी होने पर ही चालू कर सकतें है लेकिन हमारे पास पेंडिंग बिल माफ करने का कोई अधिकार नही है ।
फ़ोटो कैप्शन :पीड़ित लोग एक्सईन के साथ बातचीत करते हुए ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।