उपायुक्त मण्डी का अंतराष्ट्रीय शिवरात्रि मेले मे आने का नेवता व शांतिपूर्वक आयोजन का आग्रह
February 17th, 2020 | Post by :- | 152 Views
मंडी, 17 फरवरी:-(दिलाराम भारद्वाज ब्यूरो चीफ ) मंडी अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव समिति के अध्यक्ष एवं उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने सभी लोगों को शिवरात्रि महोत्सव-2020 का न्यूंद्रा (न्यौता) देते हुए आयोजन को सफल बनाने में सक्रिय सहयोग का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि सबकी सहभागिता से महोत्सव को भव्य व अनूठा स्वरूप दिया जाएगा।
उन्होंने सोमवार को यहां आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि मेला समिति ने महोत्सव की पुरातन परंपराओं को सहेजने के साथ साथ इस बार लीक से कुछ हटकर करने पर जोर दिया है।
अंतराष्ट्रीय शिवरात्रि मेले  का शुभारम्भ मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर करेंगे। वे 22 फरवरी को प्रथम जलेब की अगवानी करेंगे। मध्य जलेब 25 फरवरी को निकाली जाएगी। तीसरी और अन्तिम जलेब में 28 फरवरी को राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय शामिल होंगे।
हिमाचल प्रदेश के 5 दशक की स्वर्णिम यात्रा होगी थीम
उन्होंने कहा कि साल 2020 हिमाचल के पूर्ण राज्यत्व का 50वां साल है। इसलिए 22 से 28 फरवरी तक हो रहे अतंर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव की थीम हिमाचल प्रदेश के 5 दशक की स्वर्णिम यात्रा पर केंद्रित रहेगी। 25 फरवरी की सांस्कृतिक संध्या में हिमाचली संस्कृति को समर्पित नृत्य नाटिका ‘थिरकन’ विशेष आकर्षण होगा।
हिमाचली, सूफी और पंजाबी रंग
महोत्सव में सभी के मनोरंजन व लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सांस्कृतिक संध्याओं में हिमाचली प्रतिभाओं को अधिक अवसर देने का निर्णय लिया गया है।
 महोत्सव में 22 से 27 फरवरी तक 6 सांस्कृतिक संध्याएं आयोजित की जाएंगी इनमें हिमाचली संस्कृति के अलावा सूफी और पंजाबी रंग भी देखने को मिलेगा। इसके अतिरिक्त महोत्सव में विभिन्न खेल प्रतियोगताएं भी करवाई जाएंगी। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के अभियान को बल देते हुए 27 फरवरी को नन्हीं बेटियों का हिमाचली परिधानों में रैंप वॉक-फैशन शो होगा।
महोत्सव में पांच खेलकूद प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी जिनमें मुख्य आकर्षण छिंज के अलावा कबड्डी, रस्साकसी, कराटे और रंगोली का आयोजन किया जाएगा।
ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि शिवरात्रि आयोजन से जुड़ी सारी प्रक्रिया लिपिबद्ध किया जा रहा है। इसे एक पुस्तक का रूप दिया जा रहा है, जिसमें महोत्सव के आयोजन का संपूर्ण ब्यौरा क्रमवार लिखा रहेगा। ये ‘मार्गदर्शिका’ भविष्य में आयोजकों के लिए एक संदर्भ पुस्तक के तौर पर उपयोगी होगी।
देव सम्मान व सुविधाओं पर खास ध्यान
उन्होंने कहा कि इस बार भी 216 देवी देवताओं को महोत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। महोत्सव में पधारने वाले देवी देवताओं, कारदारों और देवलुओं की सुविधा के लिए सभी प्रबन्ध कर लिए गए हैं। देवताओं के ठहरने के महत्वपूर्ण 5 स्थानों पर व्यवस्था के लिए विशेष टीमें गठित की गई हैं।
उन्होंने कहा कि जलेब की पुरातन परंपरा को पुनः स्थापित करने के साथ पड्डल से राज देवता माधो राय की पालकी पूरी रौनक के साथ वापिस लाने की व्यवस्था रहेगी।
पड्डल में लगेगा सरस
महोत्सव के दौरान पड्डल में सरस मेला भी लगेगा। इसमें पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, गोआ, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, केरल और झारखंड सहित देश के अन्य राज्यों के स्वयं सहायता समूह भाग लेंगें ।
उपायुक्त ने कहा कि महोत्सव के दौरान नगर परिषद मंडी के सहयोग से शहर में साफ सफाई व्यवस्था तय बनाई जाएगी। अस्थाई शौचलयों की समुचित व्यवस्था की जाएगी। महोत्सव के अनुरूप शहर को सजाया जाएगा। साथ ही पुलिस और गृह रक्षा के करीब 1200 जवान कानून व्यवस्था की दृष्टिगत डियूटी पर रहेंगे।
यह रहे मौजूद
इस दौरान मंडी अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव समिति की स्वच्छता उप समिति की अध्यक्ष सुमन ठाकुर, सांस्कृतिक उपसमिति के संयोजक एवं अतिरिक्त उपायुक्त आशुतोष गर्ग, देवता उप समिति के संयोजक एवं अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी श्रवण मांटा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पुनीत रघु, सहायक आयुक्त संजय कुमार, सूचना जनसंपर्क विभाग की उपनिदेशक मंजुला कुमारी सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।