इन्दिरा गांधी नहर मे प्रस्तावित नहरबन्दी के सम्बंध मे बैठक । नहर बंदी के दौरान सुचारू पेयजल आपूर्ति के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाए सुनिश्चित करे : जलदाय मंत्री
February 17th, 2020 | Post by :- | 145 Views

बीकानेर  (रामलाल लावा ) जलदाय मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने इंदिरा गांधी नहर में प्रस्तावित नहरबंदी के दौरान बीकानेर, श्री गंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू, जोधपुर, जैसलमेर और बाड़मेर जिलों सहित सम्बंधित क्षेत्रों में सुचारू पेयजल आपूर्ति के लिए अधिकारियों को सभी आवश्यक व्यवस्थाएं अग्रिम तौर पर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि नहरबंदी से किसी भी जगह पर जनता को पेयजल के लिए कोई दिक्कत नहीं आए, इसके लिए पर्याप्त स्टोरेज की व्यवस्था हो, साथ ही टेल एंड एवं ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल सप्लाई के लिए ‘कंटीजेंसी प्लान’ भी बनाया जाए।

डॉ. कल्ला सोमवार को जयपुर में विद्युत भवन के कांफ्रेंस हॉल में इंदिरा गांधी नहर में प्रस्तावित नहरबंदी के दौरान पेयजल व्यवस्था सुनिश्चित करने के सम्बंध में सम्बंधित जिलों के जनप्रतिनिधियों तथा जलदाय विभाग एवं जल संसाधन विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

बैठक में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल, उच्च शिक्षा मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी के अलावा बीकानेर, श्री गंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू, जोधपुर, जैसलमेर और बाड़मेर जिलों के विधायकगण श्री विनोद कुमार चौधरी, श्री रामप्रताप कासनिया, श्री धर्मेंद्र मोची, श्री नरेन्द्र बुडानिया, श्रीमती कृष्णा पूनियां, श्री राजकुमार गौड़, श्री अमित चाचान, श्री जगदीश चंद्र जांगिड़, श्री बलबीर सिंह लूथरा, श्री गुरमीत सिंह कुनर, श्री सुमित गोदारा, श्री बिहारीलाल विश्नोई, श्री किशनाराम विश्नोई, श्री मदन प्रजापत एवं श्रीमती संतोष बावरी, जलदाय विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री राजेश यादव, जल संसाधन विभाग के शासन सचिव श्री नवीन महाजन सहित जलदाय विभाग एवं जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता, अतिरिक्त मुख्य अभियंता तथा सम्बंधित अधिकारी मौजूद थे।

जलदाय मंत्री डॉ. कल्ला ने निर्देश दिए कि जहां—जहां भी इंदिरा गांधी कैनाल से पेयजल के लिए पानी दिया जा रहा है, अधिकारी वहां के लिए ऐसा प्लान तैयार रखे ताकि लोगों को नहरबंदी के दौरान कोई समस्या नहीं हो। नहरबंदी से पहले इन क्षेत्रों में पेयजल के स्रोतों को पहले से भर लिया जाए ताकि पीने के पानी की कोई कमी नहीं रहे। उन्होंने कहा कि नहरबंदी के दौरान होने वाले कार्यों की भी अधिकारी पूरी मॉनिटंरिंग करे ताकि सभी कार्यों की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने  बैठक में जनप्रतिनिधियों द्वारा दिए गए सुझावों के सम्बंध में अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही करने को कहा।

बैठक में जल संसाधन विभाग के शासन सचिव श्री नवीन महाजन ने बताया कि मार्च माह के अंतिम सप्ताह से इंदिरा गांधी नहर में प्रस्तावित नहरबंदी के दौरान पहले 40 दिन पानी का प्रबंधन पेयजल की दृष्टि से बरकरार रखा जाएगा, पूर्णत: नहरबंदी 30 दिन की होगी। उन्होंने बताया कि नहरबंदी के कार्यों की गुणवत्ता जांच के लिए थर्ड पार्टी इंस्पैक्शन कराया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।