विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल चंडीगढ़ ने भारतीय सेंसर बोर्ड के खिलाफ नारेबाजी की और फिल्म द बॉक्स के पोस्टर जलाए
February 17th, 2020 | Post by :- | 161 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा)आज विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल द्वारा दुष्यंत प्रताप सिंह द्वारा बनाई गई फिल्म दा हंड्रेड बक्स जो कि आने वाली 21 फरवरी को रिलीज होने वाली है के विरोध में प्रदर्शन किया। जिसमें दुष्यंत प्रताप सिंह के खिलाफ नारेबाजी की गई भारतीय सेंसर बोर्ड के खिलाफ नारेबाजी की गई और फिल्म द बॉक्स के पोस्टर जलाए गए।

इस मौके इस मौके पर बजरंग दल संयोजक नरेंद्र बंसल और चंडीगढ़ बजरंग दल प्रभारी देवेंद्र सिद्धू ने संयुक्त रूप से बताया कि हमारा भारत एक सभ्यचरक देश है और अपनी संस्कृति के लिए जाना जाता है और इस तरह की फिल्में बनाकर पूरा जोर लगाया जाता है कि, हम भारतवासी अपनी संस्कृति को पूरा भूल जाए *दा हंड्रेड बक्स* नामक फिल्म जो 21 फरवरी को रिलीज होने जा रही है उसमें महिलाओं द्वारा गंदी गंदी गालियां निकालते हुए दिखाया गया है जोकि हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता के खिलाफ है, यह एक बहुत बड़ा षड्यंत्र है जो की पूरी प्लानिंग से किया गया है, उसी प्लानिंग के अंतर्गत फिल्मों में कुछ ऐसे सीन दिखाए जाते हैं जिसमें किसी मुसलमान को या मौलवी को देश हित में बातें करते हुए दिखाया जाता है और दूसरी तरफ फिल्मों में किसी पंडित या साधु को चोर और लुटेरा दिखा दिया जाता है, हम विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल और सभ्य भारत के नागरिक होते हुए इस मूवी का संपूर्ण रूप से विरोध करते हैं। आज इस धरना और रोष प्रदर्शन के बाद माननीय डिप्टी कमिश्नर, महामहिम गवर्नर ऑफ पंजाब एंड एडमिनिस्ट्रेटिव चंडीगढ़ और प्रधानमंत्री कार्यालय एवं राष्ट्रपति कार्यालय में भी इस संदर्भ में ज्ञापन देंगे और उनसे आशा करेंगे कि इस फिल्म पर पूर्णता प्रतिबंध लगाया जाए और किसी तरीके से भारतीय सेंसर बोर्ड पर भी नकेल कसी जाए कि इस तरीके के गाली गलौज या अभद्र सीनो वाली फिल्म पर प्रतिबंध लगाकर उसको पास ना किया जाए इस मौके पर सुरेश राणा, अनुज कुमार सहगल, राकेश चौधरी, जतिंदर दलाल, शिप्रा बंसल, भारत भूषण कपिला, मनोज शर्मा, गिरिवर शर्मा, तजिंदर नामधारी, संदीप गर्ग, चांदनी, आदि अनेक उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।